Press "Enter" to skip to content

आज से लग गए होलाष्टक, 1 मार्च तक रहेंगे, नहीं करें कोई शुभ कार्य

 इस बार होलाष्टक आज (23 फरवरी) से लग गए हैं जो आगामी एक मार्च को होलिका दहन वाले दिन तक प्रभावी होलाष्टक होली से 8 दिन पूर्व प्रारंभ हो जाता है, इसी दिन से होलिका दहन की तैयारी प्रारंभ हो जाती है, होलिका दहन स्थल पर सर्वप्रथम एक डंडा गाड़ा जाता है जो घोषित करता है की होली का त्योहार आ गया है नकारात्मक उर्जाओं पर विजय पाने का इसलिए गाय के गोबर से लीप कर होली दहन स्थल को पवित्र को शुद्ध व पवित्र कर लेना चाहिए तथा पेड़ों से प्राकृतिक रूप से गिरी टहनियां आठ दिन तक एकत्रित कर के होली स्थल पर लगानी चाहिए किसी हरे वृक्ष का काटा जाना पुण्य के स्थान पर विपरीत प्रभाव देता है तथा पर्यावरण को तो नुकसान करता ही है. होलाष्टक के प्रारंभ से बसंत के मौसम का रोमांच पराकाष्ठा पर पहुँच जाता है, होलाष्टक वाले दिन ही भगवान शिव के त्रिनेत्र द्वारा कामदेव भस्म हो गये थे इसलिए यह त्योहार उमंग के साथ संयम पूर्वक मनाना शुभदायी होता है। होलाष्टक अवधि में आसुरी ताकतें उभरती हैं इसलिए होलाष्टक के आठ दिनों में कोई भी शुभ कार्य भूमि पूजन ग्रह प्रवेश विवाह आदि सोलह संस्कार का किया जाना अशुभ प्रभावी होता है।

-भारत ज्ञान भूषण

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.