Press "Enter" to skip to content

गाय के गोबर से बनी लकड़ी से अंतिम संस्कार की तैयारी, हर साल 4000 पेड़ बचेंगे

भोपाल:

नागपुर और ग्वालियर की तर्ज पर भोपाल में भी गौ काष्ठ (गोबर से बनी लकड़ी) से अंतिम संस्कार की तैयारी हो रही है. नागपुर में तो महानगरपालिका गौ काष्ठ उपलब्ध करा रही है. यह प्रयोग सफल होने पर पर्यावरण के संरक्षण में मदद मिलेगी. भोपाल के तीन बड़े विश्रामघाटों सुभाष नगर, छोला और भदभदा पर कुल मिलाकर 4000 अंतिम संस्कार होते हैं. एक अंतिम संस्कार में औसत तीन क्विंटल लकड़ी का उपयोग होता है, साल भर में 12 हजार क्विंटल लकड़ी केवल अंतिम संस्कार में लग जाती है.

सेंट्रल पाल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (सीपीसीबी) के सीनियर साइंटिस्ट डॉ. वाईके सक्सेना जी ने बताया कि तीन महीने पहले उनके पिता का निधन होने पर उनका ग्वालियर में अंतिम संस्कार किया था. उस समय उन्हें पता लगा कि गौ काष्ठ से अंतिम संस्कार की सुविधा उपलब्ध है. उन्होंने गौ काष्ठ से ही पिता का अंतिम संस्कार का निर्णय लिया. बाद में इसे भोपाल में भी लागू करने के लिए उन्होंने भदभदा विश्रामघाट समिति के उपाध्यक्ष पांडुरंग नामदेव से संपर्क किया.

More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.