Press "Enter" to skip to content

चेक बाउंस का मामला : आरोपी को सवा साल की सजा व 76 लाख हर्जाना

मुजफ्फरनगर (एम. रहमान) ।

बसपा की तत्कालीन सरकार में शासन से राज्यमंत्री स्तर का दर्जा दिलाने का झांसा देकर लोगों से करोडों रुपये वसूलने के चर्चित घोटाले के एक आरोपी राजीव मिश्रा पर चैक बाउंस होने का अभियोग साबित होने पर विशेेष अदालत ने सवा साल के साधारण कारावास एवं 76 लाख रुपये के हर्जाने की सजा का फैसला सुनाया है। न्यायालय के फैसले के मुताबिक अब आरोपी को चेक की रकम व हर्जाना मिलाकर एक करोड 52 लाख रुपये वादी को अदा करने होंगे।
अधिवक्ता वकार अहमद ने बताया कि उनके मुवक्किल जय कुमार को आरोपी राजीव मिश्रा ने 76 लाख रुपये का एक चैक दिया गया था जिसे भुगतान के लिए बैंक में पेश किया गया लेकिन खाते में पर्याप्त धनराशि न होने के कारण वह बाउंस हो गया। वादी ने अपने वकील के माध्यम से पहले राजीव मिश्रा को नोटिस भेजा लेकिन उसके बाद भी धन प्राप्त न होने की सूरत में 27 जून 2011 को न्यायालय में वाद दायर किया।

मामले की सुनवाई विशेष न्यायाधीश एस.के.गुप्ता की अदालत में हुई जिसमें आरोप सिद्ध होने पर विद्वान न्यायाधीश ने आरोपी राजीव मिश्रा को निगोशिएबल इस्ट्रूमेंट की धारा 138 के अन्तर्गत दोषी माना तथा उसे सवा साल की सजा सुनाते हुए मूल रकम के अलावा वादी को 76 लाख ही हर्जाने की राशि से दंडित किया। जिसके तहत आरोपी को चेक की रकम व हर्जाना मिलाकर एक करोड 52 लाख रुपये वादी को अदा करने होंगे। उल्लेखनीय बात ये है कि वर्तमान में आरोपी जेल में है।

More from उत्तर प्रदेशMore posts in उत्तर प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.