Press "Enter" to skip to content

जानसठ तहसील में रिश्वत लेता कानूनगो रंगे हाथों गिरफ्तार, एंटी करप्शन टीम ने की कार्यवाही

मुजफ्फरनगर।

एंटी करप्शन टीम ने रिश्वत के आरोप में तहसील जानसठ में चकबंदी कानूनगो सुनील कुमार को रंगे हाथों ₹50000 की नगदी रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। तहसील जानसठ में कुछ समय पूर्व एक अन्य लेखपाल पहले भी जेल जा चुका है लेखपाल एवं तहसील कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

तहसील जानसठ के गांव आलमपुर निवासी सुरजीत सिंह पुत्र दिलेराम ने अपनी गांव आलमपुर और खादर क्षेत्र की भूमि रकबा और हिस्सा ठीक कराने के लिए पालमपुर चकबंदी कानूनगो सुनील कुमार से संपर्क किया तो कानूनगो ने भूमि खाता को सही करने के लिए 125000 रुपए रिश्वत की मांग की लेकिन जब सुरजीत ने इतने पैसे एक साथ इंतजाम करने पर उक्त कानूनगो से ₹50000 पहले बाकी काम करने के बाद रिश्वत की किस्त बता दी और 50000 पहले मांगे जिस पर पीड़ित किसान ने उक्त मामले का प्रार्थना पत्र एंटी करप्शन को दिया,  जिस पर एंटी करप्शन टीम के इंस्पेक्टर उदयवीर सिरोही, रणवीर सिंह, के पी सिंह अपने अन्य साथियों के साथ तहसील जानसठ में लगभग सात 4:00 बजे पहुंचे और योजना के अनुसार पीड़ित को 50000 की नोटों की गड्डी रंग लगी चकबंदी कानूनगो सुनील कुमार को दी गई, जिस पर कानूनगो ने जैसे ही रिश्वत ली नोटों की गड्डी अपनी जेब में रखे तभी एंटी करप्शन टीम ने रंगे हाथों पकड़ कर जानसठ कोतवाली ले गई और मुकदमा दर्ज कर पूछताछ के लिए टीम अपने साथ ले गई ।

इससे पूर्व तहसील जानसठ से लेखपाल राजीव लोचन भी रिश्वत के मामले में कुछ समय पूर्व जेल गया था एंटी करप्शन कार्यवाही से तहसील में हड़कंप मच गया और लेखपाल और कर्मचारियों में दहशत व्याप्त हैं इस तरह से कार्य चलता रहा तो रिश्वत लेने वालों की काफी कमी आ सकती है

More from उत्तर प्रदेशMore posts in उत्तर प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.