Press "Enter" to skip to content

ज्योतिष के क्षेत्र का प्रसिद्ध नाम है ज्योतिषाचार्य गौरव आर्य

ज्योतिष के क्षेत्र का प्रसिद्ध नाम है ज्योतिषाचार्य गौरव आर्य

एक मुलाकात गौरव आर्य के साथ : THE SPIRITUAL MAN BEHIND ASTHA OR ADHYATM

ज्योतिषाचार्य गौरव आर्य जी का ज्योतिष के क्षेत्र में प्रसिद्ध नाम है। उनको देवभूमि उत्तराखंड सरकार के कैबिनेट मंत्री और भारत का प्रमुख अखबार अमर उजाला ज्योतिष श्री के सम्मान सम्मानित कर चुका है। इनकी की हुई भविष्य वाणियां बिल्कुल सटीक बैठती हैं, ऐसा कर बार देखा जा चुका है।

इसलिए ज्योतिष में विश्वास रखने वाले विभिन्न दलों के बडे-बडे नेता और अधिकारी उनसे अपने भविष्य के बारे में पूछते रहते हैं। कुडली देखकर ये सटीक भूत और भविष्य बताते हैं। कम आयु में इतना ज्ञान होना कहीं न कहीं इनमें ईश्वर की विशेरूा कृपा को दर्शाता है। इन पर उज्जैन के महाकाल की भी विशेष कृपा है। शनि देव की भी उन पर विशेष कृपा है।

पैशे से मैकेनिकल इंजीनियर रहे गौरव जी जनसेवा और ज्योतिष के क्षेत्र में शोध करने के लिए अपनी अच्छी खासी नौकरी को भी छोड चुके हैं। वर्ष 2016 में गौरव आर्य जी ने आस्था और अध्यात्म के नाम से संस्था बनाई, जो अति प्राचीन भारतीय संस्कृति के संरक्षण और ज्योतिष के क्षेत्र में शोध करती है। इस नाम से उनके अनुयायी भारत में  WWW.ASTHAORADHYATM.IN वेबसाइट और अमेरिका में WWW.ASTHAORADHYATM.US नाम से वेबसाइट चलाते हैं। जिन पर उनके ज्ञान से लोग लाभान्वित होते रहते हैं।

इन्होंने कुछ समय हिमालय की घाटियों में भी बिताएं हैं। जहां से असीम ज्ञान की प्राप्ति हुई। इनके उत्तराखंड में अनेक अनुयायी हैं। जिनमें अधिकतर राजधानी देहरादून, रूडकी और हरिद्वार में हैं।

इनका कहना है कि यहां के उनके हजारों अनुयायी चाहते हैं कि मैं यहां एक आश्रम स्थापित करूं। ताकि यहां के लोग भी उनके ज्ञान से लाभान्वित हो सकें। आश्रम के लिए इनके कुछ अनुयायी भूमि दान देने को भी तैयार हैं परंतु उनका कहना है कि मुझे धन तो धन का लालच है और न ही संपत्ति का। मैं सभी जनों के भले के लिए कार्य करता हूं और भविष्य में करता रहूंगा। इसलिए यहां समय-समय पर आता रहूंगा।

देशभर के अलावा उनके अनुयायी विदेशों में भी हैं। मीडिया में कम आने की वजह से लोग उनके बारे में कम ही जानते हैं। इनका कहना है कि मेरा उददेश्य प्रसिद्ध होना है, नहीं बल्कि जनसेवा है।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.