Press "Enter" to skip to content

टेरर फंडिंग के मामले में यूपी एटीएस को बड़ी सफलता, 10 गिरफ्तार, 42 लाख बरामद

लखनऊ ।

टेरर फंडिंग के मामले में यूपी एटीएस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। एटीएस ने गोरखपुर, प्रतापगढ़, लखनऊ और मध्य प्रदेश के रीवा से आतंकी संगठनों को पैसा मुहैया करने के आरोप में दस लोगों को गिरफ्तार किया है।
रविवार को इस मामले में जानकारी देते हुए आईजी एटीएस असीम अरुण ने बताया कि यूपी और एमपी के दो लोग पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैय्यबा के संपर्क में थे। जोकि, आतंकियों के कहने पर भारत में फर्जी अकाउंट खोलने और अन्य आतंकियों के खातों में पैसे भेजने का काम कर रहे थे।
इसकी सूचना एटीएस को मिली थी। जिसपर कार्रवाई करते हुए 24 मार्च को एटीएस ने गोरखपुर, प्रतापगढ़, लखनऊ और रीवा में छापेमारी की। यहां से दस लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर इस साजिश का खुलासा हुआ है।
जिन खातों में पैसे ट्रांसफर किए गए हैं उनकी जांच की जा रही है। जल्द ही इस मामले में कई और खुलासे सामने आने की संभावना व्यक्त की जा रही है।

बताया गया कि लश्कर का आतंकी लाहौर से फोन और इंटरनेट से भारत में अपने लोगों के सम्पर्क में था । भारत में अपने सदस्यों से फर्जी एकाऊंट खोलने को कहता था और फिर ये बताता था कि किस एकाउंट में कितना धन डालना है । इंडियन एजेंट्स को भी कट ऑफ मिलता था, पाकिस्तान से simbox से अवैध नेटवर्क द्वारा कॉल होती थी । अपराधियों ने आतंकियों के कहने पर पैसे ट्रांसफर करने और अवैध खातों को खोलने की बात स्वीकार की है। इसमें से कुछ ये सोच रहे थे कि ये लॉटरी फ्रॉड का पैसा है, जबकि कुछ को अच्छी तरह मालूम था कि वो टेरर फंडिंग का काम कर रहे हैं।

इनके पास से भारी मात्रा में एटीएम कार्ड, 42 लाख रुपए नगद, 06 स्वैप मशीन, मैग्नेटिक कार्ड रीडर, तीन लैपटॉप, मोबाइल फोन, एक देशी पिस्टल, दस कारतूस, बड़ी संख्या में अलग-अलग बैंकों के पासबुक, फर्जी डॉक्यूमेंट बनाने की सामग्री बरामद हुई है। आईजी एटीएस ने बताया कि Pakistan, Nepal aur Qatar से पैसा fake अकाऊंट में भारत भेजा गया है ।इस पैसा का इस्तेमाल जासूसी और आतंक कार्रवाई में किया गया ह ै

डीजीपी ने दी बधाई
यूपी पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह ने एटीएस की इस सफलता पर पूरी टीम को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि सीएम योगी द्वारा एसटीए की मजबूती पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। यह खुलासा एटीएस की विकसित हुई क्षमताओं का परिणाम है। उन्होंने इस तरह के नेटवर्क को आतंकवाद का इंफ्रास्ट्रक्चर बताते हुए नष्ट करने की बात कही।

गिरफ्तार किए गए अपराधियों का ब्योरा इस प्रकार है-

संजय सरोज, प्रतापगढ़
नीरज मिश्रा, प्रतापगढ़
साहिल मसीह, लखनऊ
शंकर सिंह, रीवा, mp
मुकेश प्रसाद, गोपालगंज, बिहार,
मुशर्रफ अंसारी, कुशीनगर
सुशील राय, आज़मगढ़
दयानन्द , गोरखपुर
नसीम अहमद, गोरखपुर
अरशद नईम, गोरखपुर

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.