Press "Enter" to skip to content

नसीमुद्दीन सिद्दीकी को गले लगाएगी कांग्रेस

नसीमुद्दीन सिद्दीकी को गले लगाएगी कांग्रेस  :———–

लखनऊ । बसपा से बाहर का रास्ता दिखाए जाने के बाद राजनीतिक बियाबान में भटक रहे उत्तर प्रदेश विधानपरिषद के सदस्य पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी को आखिरकार कांग्रेस में जगह मिल गयी है। नयी दिल्ली में वह बृहस्पतिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में आस्था व्यक्त करते हुए पार्टी की विधिवत सदस्यता ग्रहण कर लेंगे। बीते बरस उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के समय तक सिद्दीकी बसपा के सबसे ताकतर नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती के सबसे खास सिपहसालार माने जाते थे। चुनाव में बसपा प्रत्याशियों का चयन और उनसे फंड उगाही के काम में सिद्दीकी की ही बडी भूमिका थी। चुनाव में दलित-मुस्लिम समीकरण परवान नहीं चढ़ा और शर्मनाक पराजय के बाद बसपा के मात्र 19 विधायक ही निर्वाचित हो सके। माना जा रहा है कि चुनाव में उम्मीदवारों से जुटाई गयी भारी भरकम धनराशि में धपले को लेकर मायावती व सिद्दीकी में मतभेद हुआ। हालांकि सीधे तौर पर मायावती ने टिकट के बदले फंड उगाही की बात ना कह कर पार्टी सदस्यता शुल्क ना जमा कराने का आरोप लगाया था। दूसरी तरफ सिद्दीकी ने समय-समय पर मायावती से हुई टेलीफोनिक वार्ता के टेप मीडिया को सुना कर मायावती पर तीखे आरोप लगाए थे। आरोप-प्रत्यारोप के बीच बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्र ने नसीमुद्दीन सिद्दीकी और उनके बेटे अफजल सिद्दीकी को पार्टी के सभी पदों और प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित करने की घोषणा कर दी थी। बसपा से निकाले जाने के बाद सिद्दीकी ने समाजवादी पार्टी में शामिल होने की पुरजोर कोशिश की। इस सिलसिले में सपा के कद्दावर नेताओं से उनकी मुलाकात भी हुई। सपा ने भी उन्हें शामिल करने का मन बना लिया था। बीते साल आगरा में संपन्न समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में वह विधिवत सपा की सदस्यता लेने की पूरी तैयारी कर चुके थे। यहां तक कि अपने साथ सपा में शामिल होने वाले समर्थकों की सूची भी तैयार कर ली थी पर ऐन मौके पर सपा ने भी सिद्दीकी के लिए अपने दरवाजे बंद कर लिए। ऐसी स्थित में सेक्यूलर सियासी जमातों में सिद्दीकी के पास कांग्रेस के अलावा और कोई विकल्प ही नहीं बचा था। राजनीतिक दल की तलाश में सिद्दीकी ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर और प्रदेश कांग्रेस प्रभारी गुलाम नबी आजाद से मुलाकात की। इन दोनों की सहमति के बाद बृहस्पतिवार को वह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के समक्ष पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर लेंगे।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.