Press "Enter" to skip to content

नोटबंदी पर मायावती ने कहा केंद्र सरकार माफी मांगें, अखिलेश ने कहा नाकामयाब

लखनऊ। केन्द्र की मोदी सरकार की ओर से 8 नवंबर 2016 को लागू की गई नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर बहुजन समाज पार्टी ने मांग की है कि केन्द्र सरकार देश से माफी मांगे। वहीं, समाजवादी पार्टी ने केंद्र से सवाल पूछा कि नोटबंदी का लाभ किसकी जेब में गया।

बसपा ने कहा कि जिन सपनों और वादों के साथ नोटबंदी की गई थी, वे अब तक अधूरे हैं। बसपा प्रमुख मायावती ने शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा कि नोटबंदी के सम्बन्ध में जो फायदे केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने जनता को गिनाये थे, उनमें से किसी भी उद्देश्य के आज दो वर्ष होने के बाद भी पूरा नहीं होने पर सरकार को लोगों से माफी मांगनी चाहिए। पूर्ण बहुमत की सरकार वादाखिलाफी की सरकार के रूप में ही हमेशा याद की जाएगी। वहीं, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि 50 दिन मांगे थे और अब दो साल भी पूरे हो गए लेकिन जनता अभी भी इस सवाल का जवाब पाने का इंतजार कर रही है कि नोटबंदी से कारोबार के चौपट होने तथा बेकारी बेरोजगारी के बढऩे के सिवाय और क्या मिला? अगर सरकार इसे सफल मानती है तो यह बताए कि इसका लाभ किसकी जेब में गया। मायावती ने आरोप लगाया कि जहां एक तरफ नोटबन्दी ने आम आदमी की कमर तोड़ दी तो वहीं दूसरी तरफ भाजपा एण्ड कंपनी के तमाम चहेतों ने इसी बहाने अपने-अपने काले धन को विभिन्न उपायों के माध्यम से बैंकों में जमा कर उसे सफेद कर लिया। स्वयं भाजपा ने भी पार्टी के तौर पर देशभर में अकूत सम्पत्ति अर्जित कर ली है, यह भी जनता की नजर में है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार थोपी गई नोटबन्दी की आर्थिक इमरजेन्सी एक व्यक्ति की अपनी मनमानी व अहंकार का नतीजा थी। भाजपा सरकार को अपना अहंकार त्यागकर देश की जनता से इसके लिए माफी मांगनी चाहिए।यहॉ भी क्लिक करे।

More from उत्तर प्रदेशMore posts in उत्तर प्रदेश »
More from खबरMore posts in खबर »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.