Press "Enter" to skip to content

बड़ी उम्र के कलक्टर विकास में बाधक : मोदी

नयी दिल्ली।

संसद के सेंट्रल हॉल में शनिवार को राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सम्मेलन संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिलो में युवा कलक्टरों की नियुक्ति पर बल दिया है। उन्होंने कहा कि बड़ी उम्र के कलक्टर विकास में बाधक है। साथ ही पीएम ने सामाजिक न्याय, भारतीय संविधान, स्वच्छ भारत अभियान समेत कई मुद्दों पर अपनी बात सामने रखी।
इस दौरान पीएम मोदी ने युवा अधिकारियों की नियुक्तियों पर भी जोर दिया. उन्होंने कहा कि आम तौर पर जिले के कलेक्टर जो होते हैं उनकी उम्र 30 साल होती है। देश के 115 जिलों में 80 प्रतिशत से ज्यादा जो डीएम थे वो 40 की उम्र से ज्यादा थे, कोई 45 के भी थे. अब बताइए जो 45 का है उसके पास कई सारे निजी काम हैं. ज्यादातर स्टेट प्रमोटिव ऑफिसर हैं, उन्हें ही भेजा गया. वहीं से सोच बैठ गई है कि बैकवर्ड जिला है, इसे ही भेज दो।’ इसलिए जिलों में युवा अफसरों की जरुरत है जो ज्यादा ऊर्जा के साथ काम कर सके। हालांकि उन्होंने साफ किया कि वे इसे आलोचना के तौर पर नहीं कह रहे हैै।

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा, ‘हमारे संविधान की विशेषता अधिकारों और कार्यों के बंटवारे के कारण नहीं है। देश में सदियों से बुराइयां घर कर गई थीं। मंथन से जो अमृत निकला उसे हमारे संविधान के अंदर जगह मिली. वो बात थी सामाजिक न्याय की. कभी-कभी ऐसा भी लगता है कि सामाजिक न्याय का एक और भी दायरा है। कोई मुझे बताए, एक घर में बिजली है, बगल के घर में बिजली नहीं है, क्या सामाजिक न्याय की ये जिम्मेदारी नहीं बनती है कि दूसरे घर में भी बिजली होनी चाहिए।’
सम्मेलन में देश के 101 पिछड़े जिलों के प्रतिनिधि मौजूद रहे। देश के विकास के लिए विधायक-सांसदों का शुरू हुआ यह सम्मेलन दो दिन तक चलेगा।

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.