Press "Enter" to skip to content

“टी0वी0 समाचार लेखन और दृश्यांकन“ विषय पर कार्यशाला का आयोजन

मुजफ्फरनगर-

श्रीराम कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट के सभागार में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग द्वारा “टी0वी0 समाचार लेखन और दृश्यांकन“ विषय पर एकदिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसका शुभारंभ कार्यक्रम के मुख्यवक्ता एवं राष्ट्रीय न्यूज़ चैनल में सीनियर प्रोड्यूसर के पद पर कार्यरत गौरव चौधरी, श्रीराम कॉलेज के निदेशक डा0 आदित्य गौतम, श्रीराम कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट के सह निदेशक डा0 अभिषेक बागला, श्रीराम कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट की डीन डा0 पूनम शर्मा और पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के विभागाध्यक्ष रवि गौतम द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया गया।

कार्यशाला के मुख्यवक्ता गौरव चौधरी ने विषय पर प्रकाश डालते हुए विद्यार्थियों को टी0वी0 समाचार लेखन की बारीकियों को विस्तार से समझाया। उन्होंने बताया कि समाचार लेखन पत्रकारिता की रीढ़ की हड्डी है। पिछले दस सालों में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का स्वरूप पूरी तरह से बदल गया है। जहां दस साल पहले टी0वी0 मीडिया को समाचारों की कमी से जूझना पडता था वहीं आज सोशल मीडिया के आगमन के कारण समाचारों और वाइरल वीडियो क्लिपिंग्स की इतनी भरमार रहती है कि उनमें से गुणवत्तापूर्ण समाचारों का चयन करना चुनौतीपूर्ण हो गया है। वास्तव में आज का युग टी0वी0 मीडिया के लिए दृश्यांकन का युग है। वीडियो की भरमार ने समाचार लेखन को पहले से ज्यादा चुनौतीपूर्ण एवं आकर्षक बना दिया है। उन्होंने आगे बताया कि समाचारों के बाज़ार में आज वही टिकेगा जिसके पास सशक्त शब्द भण्डार के साथ-साथ रचनात्मक नवीनता और रोचक तरीके से समाचारों का प्रस्तुतीकरण करने की कला हो। उन्होंने कहा कि दस-पंद्रह सेकेण्ड के दृश्यांकन से दस-पंद्रह मिनट का समाचार पैकेज तभी तैयार कर सकते हैं जब प्रोड्यूसर को उस विषय के संबंध में समृद्ध जानकारी हो।

उन्होंने कहा कि सफल समाचार प्रस्तुतकर्ता हमेशा उपलब्ध सर्वश्रेष्ठ सामग्री को सबसे पहले दिखाता है चाहे वह दृश्य के रूप में हो या किसी वक्तव्य के रूप में। समाचार एंकर चैनल और दर्शक के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करता है इसलिए उसकी सोच, भाषा और मनोदशा दर्शको के साथ मेल खानी चाहिए। कभी-कभी जब तस्वीरें विचलित करने वाली होती हैं, तब तस्वीरों को ब्लर करना न केवल आवश्यक बन जाता है बल्कि नैतिक रूप से अपेक्षित भी हो जाता है। इसके अतिरिक्त उन्होंने विद्यार्थियों के मन में उठने वाली जिज्ञासाओं का भी समाधान किया। साथ ही पूरी लगन, मेहनत एवं आत्मविश्वास से लबरेज़ होकर मीडिया के क्षेत्र में अपनी रचनात्मकता को प्रदर्शित करने के लिए विद्यार्थियों को प्रेरित करते हुए कहा कि परिश्रम का कोई विकल्प नहीं है तथा मीडिया में सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं है। कार्यक्रम के अन्त में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के विभागाध्यक्ष रवि गौतम ने कार्यशाला के विषय में जानकारी देते हुए कहा कि इस कार्यशाला का उद्देश्य जहां विद्यार्थियों को टी0वी0 समाचार लेखन का विषयगत ज्ञान देना रहा वहीं सैद्धांतिक ज्ञान के साथ-साथ विद्यार्थियों ने व्यवहारिक एवं मौलिक रूप से समाचार लेखन की बारीकियों को विस्तारपूर्वक जाना।

इस अवसर पर कार्यक्रम के अंत में कार्यशाला के मुख्य वक्ता, गौरव चौधरी को श्रीराम कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट के उपनिदेशक डा0 अभिषेक बागला द्वारा स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। कार्यशाला को सफल बनाने में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के प्रवक्ता ब्रजकिशोर सिंह, मनु कौशिक, वैशाली गर्ग, श्रेया भारद्वाज, तान्या गोयल और रवीन्द्र का विशेष योगदान रहा।

More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.