Press "Enter" to skip to content

मजीठिया के खिलाफ कार्यवाही को लेकर बटीं पंजाब सरकार , सिद्धदू ने की तुरंत गिरफ्तारी की मांग

चंडीगढ़ ।

ड्रग्स रैकेट में बिक्रम सिंह मजीठिया के खिलाफ कार्यवाही को लेकर पंजाब सरकार बंट गई है। एक ओर जहां इस मामले में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह चुप्पी साधे है तो दूसरी ओर कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धदू ने इस मामले में मुखर होकर मजीठिया की गिरफ्तारी की मांग कर डाली है।
कैबिनेट मंत्री नवजोत सिद्धदू ने ड्रग्स रैकेट की जांच को एसटीएफ की रिपोर्ट के हवाले से दावा किया है कि इसमें मजीठिया की भूमिका की जांच की सिफारिश की गई है। एसटीएफ ने कहा है कि उसके पास मजीठिया के खिलाफ जांच शुरू करने को पर्याप्त सबूत हैं।
सिद्धू और उनकी पत्नी डॉ. नवजोत कौर ने अपने सरकारी आवास पर प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एसटीएफ की 34 पेज की जांच रिपोर्ट मीडिया के सामने पेश की। उसके महत्वपूर्ण अंश पढ़ कर सुनाए। साथ ही अपनी ही सरकार से मांग की कि अब मजीठिया को गिरफ्तार कर जांच शुरू की जाए। सिद्धदू ने कहा कि वह कई बार कह चुके हैं, चालीस विधायक लिख कर दे चुके हैं। लेकिन सीएम चाहते हैं कि पूरी तरह मजबूत सबूतों के बाद ही कार्रवाई की जाए।

एसटीएफ ने एनफोर्समेंट डायरेक्ट्रेट द्वारा की गई जांच और लिए बयानों को अपनी जांच का आधार बनाया है। रिपोर्ट के मुताबिक मजीठिया कनाडा वासी सतप्रीत सत्ता, परमिंदर सिंह पिंदी को जानते थे। ये लोग पंजाब आते थे तो मजीठिया के घर पर रहते, उनकी गाड़ियों में घूमते, उन्हें सिक्योरिटी दी जाती। नशों के कारोबार में लिप्त लोगों के बीच कोई विवाद होता तो मजीठिया हल कराते। ऐसा जगदीश भोला और जगजीत चाहल ने ईडी को बयान में बताया है।

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.