Press "Enter" to skip to content

बच्चा चोरी के शक में महिला फॉरेस्ट ऑफिसर और गार्ड को पीटा, कार में बंद कर जलाने की कोशिश

मध्य प्रदेश (सिंगरौली/दीपू शुक्ला)। प्रदेश के सिंगरौली जिले में सोशल मीडिया पर फैली अफवाह के बाद बच्चा चोरी करने के शक में भीड़ ने बुरी तरह से पिटाई करने के बाद एक महिला वन अधिकारी और गार्ड को कार में बंद कर दिया। वे लोग कार को जलाने जा रहे थे कि पुलिस मौके पर पहुंच गई और दोनों को निकालकर हॉस्पिटल ले गई।

बताया जा रहा है कि घटना के समय महिला अधिकारी त्रुस्थि सिंह और गार्ड बृजेश बागरी दोनों ही वर्दी में थे और एक शिकारी का पीछा कर रहे थे। बागरी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पिछले एक पखवाड़े के अंदर राज्य में मॉब लिचिंग की यह चौथी घटना है। सूत्रों ने बताया कि त्रुस्थि सिंह को सूचना मिली थी कि मुर्वा के नजदीक शिकारी किसी के साथ डील करने वाला है। इसके बाद त्रुस्थि और गार्ड बृजेश शिकारी का पीछा कर रहे थे। उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि मानव अंगों का अवैध कारोबार करने वाले माफिया और बच्चा चोरी करने वालों की वजह से इलाके में तनाव बढ़ा हुआ है।
भीड़ का शिकार बनीं त्रुस्थि ने बताया कि कुछ लोगों ने दोनों को नमस्ते किया और अजीबो-गरीब सवाल पूछना शुरू किया। कुछ सेकंड के अंदर बड़ी संख्या में लोग उनके साथ आ गए। उन्होंने कहा, कुछ लोगों ने हमारी कार की तलाशी ली और फर्स्ट एड बॉक्स पाया। उन्होंने कैंची निकाल ली और चिल्लाना शुरू किया कि किडनी निकालने के लिए यह मेडिकल किट है। उन्होंने शरीर के अंगों को निकालने के लिए बच्चों की किडनी निकालने का आरोप लगाया।
त्रुस्थि ने बताया कि भीड़ ने उन्हें पीटना शुरू कर दिया। सरकारी कर्मचारी बताने के बाद भी भीड़ ने दया नहीं दिखाई। उन्होंने कहा भीड़ ने मुझे और गार्ड को धक्का दिया और कार के अंदर बंद कर दिया। वे कार में आग लगाने की योजना बना रहे थे कि उसी समय पुलिस आ गई और हमें बचा लिया। हम वहां पर टोह लेने गए थे ताकि छापा मारने की योजना बनाई जा सके।
उन्होंने कहा, मैं अब भी नहीं जानती कि मुझसे क्या गलत हुआ या भीड़ को किस चीज ने उकसाया। मेरे वरिष्ठ अधिकारियों को इस ऑपरेशन की जानकारी थी। एसडीओ फॉरेस्ट एसडी सोनवानी ने कहा कि त्रुस्थि को अभी पोस्टिंग के 15 दिन ही हुए थे। उन्होंने बताया कि घटना में करीब 150 लोग शामिल थे। उधर, सिंगरौली के एसपी विनीत जैन ने बताया कि मामले की जांच के लिए एक विशेष जांच दल बनाया गया है। उन्होंने बताया कि आरोप है कि कोयल माफिया ने अफवाह का फायदा उठाकर उनके ऊपर हमला किया।

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.