Press "Enter" to skip to content

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 96वीं जयंती:सदैव अटल पहुंचकर राष्ट्रपति कोविंद-पीएम मोदी ने दी वाजपेयी को श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की आज 96वीं जयंती है। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित केंद्र सरकार के मंत्रियों ने उनके समाधि स्थल ‘सदैव अटल’ पर जाकर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने ने पूर्व प्रधानमंत्री को याद करते हुए कहा कि अपने दूरदर्शी नेतृत्व में उन्होंने देश को विकास की अभूतपूर्व ऊंचाइयों पर पहुंचाया। प्रधानमंत्री मोदी ने वाजपेयी जी को याद करते हुए लिखा, ‘पूर्व प्रधानमंत्री आदरणीय अटल बिहारी वाजपेयी जी को उनकी जन्म-जयंती पर शत-शत नमन। अपने दूरदर्शी नेतृत्व में उन्होंने देश को विकास की अभूतपूर्व ऊंचाइयों पर पहुंचाया। एक सशक्त और समृद्ध भारत के निर्माण के लिए उनके प्रयासों को सदैव स्मरण किया जाएगा।

अमित शाह ने किया नमन-केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी की जयंती पर कहा, ‘विचारधारा-सिद्धांतों पर आधारित राजनीति एवं राष्ट्र समर्पित जीवन से भारत में विकास, गरीब कल्याण और सुशासन के युग की शुरुआत करने वाले भारत रत्न आदरणीय अटल बिहारी वाजपेयी जी की जयंती पर उन्हें कोटिशः नमन। अटल जी की कर्तव्यनिष्ठा व राष्ट्रसेवा हमारे लिए सदैव प्रेरणा का केंद्र रहेगी।

अटलजी ने राजनीति में मर्यादाओं का पालन किया: राजनाथ-पूर्व प्रधानमंत्री को याद करते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री एवं भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष, श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी की जयंती पर मैं उन्हें स्मरण एवं नमन करता हूं। उन्होंने भारत में विकास एवं सुशासन के नए मापदण्ड तय किए। अटलजी ने राजनीति में मर्यादाओं का पालन किया। यह देश उनके विचारों से सदैव प्रेरणा लेता रहेगा।

पीएम मोदी ने किया पुस्तक का विमोचन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को संसद के केंद्रीय कक्ष में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और स्वतंत्रता सेनानी एवं शिक्षाविद पंडित मदन मोहन मालवीय की प्रतिमाओं पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें उनकी जयंती के अवसर पर श्रद्धांजलि दी। मोदी ने इस अवसर पर ‘संसद में अटल बिहारी वाजपेयी: एक स्मृति खंड’ नामक पुस्तक का विमोचन भी किया। इस अवसर पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद और समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह भी उपस्थित थे। लोकसभा सचिवालय द्वारा प्रकाशित पुस्तक में वाजपेयी के जीवन पर प्रकाश डालने सहित संसद में उनके द्वारा दिए उल्लेखनीय भाषण भी शामिल किए गए हैं। इस पुस्तक में उनके सार्वजनिक जीवन से जुड़ी कुछ ‘दुर्लभ’ तस्वीरें भी हैं। गौरलतब है कि वाजपेयी को वर्ष 2015 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। इससे पूर्व 1992 में उन्हें पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया गया था। वर्ष 1994 में उन्हें पं. गोविंद बल्लभ पंत उत्कृष्ट सांसद पुरस्कार प्रदान किया गया। वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को हुआ था। वह जनसंघ और भाजपा के संस्थापक सदस्य थे। पार्टी को कामयाबी के शिखर पर ले जाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी। प्रधानमंत्री के तौर पर वाजपेयी के कार्यकाल के दौरान देश में उदारीकरण को बढ़ावा मिला और बुनियादी ढांचे तथा विकास को गति मिली।

आप सांसदों ने संसद में की नारेबाजी-पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 96वीं जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनकी समाधि स्थल सदैव अटल जाकर पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद संसद भवन पहुंचकर केंद्रीय कक्ष में वाजपेयी और पंडित मदन मोहन मालवीय को श्रद्धांजलि दी। इसी दौरान संसद भवन में आम आदमी पार्टी के सांसदों ने कृषि कानूनों को लेकर उनका विरोध किया। वे ‘किसान विरोधी काला कानून वापस लो’, ‘एमएसपी की गारंटी दो’ के नारे लगा रहे थे।

More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.