Press "Enter" to skip to content

किशोरियों को मिलेगा 500 ग्राम देशी घी, एनीमिया-कुपोषण से बचाने को सरकार की विशेष पहल

मुजफ्फरनगर। किशोरियों को एनीमिया एवं कुपोषण से बचाने के लिए सरकार ने अनूठी पहल करते हुए नई योजना की शुरुआत की है। इसमें स्कूल नहीं जा पाने वाली किशोरियों को देशी घी वितरित किया जाएगा। राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत 11 से14 साल की स्कूल न जाने वाली किशोरियों को अब हर तीनमाह के अंतराल पर आधा किलो देशी घी नि:शुल्क मिलेगा। इसके लिए जनपद में 3500 किशोरियों को चिह्नित किया गया है। इनको 500 ग्राम प्रति माह घी निशुल्क दिया जाएगा।

जिला कार्यक्रम अधिकारी गीतांजलि वर्मा ने बताया कि बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग ने एक कंपनी से देशी घी के वितरण के लिए प्रदेश सरकार ने करार किया है। उन्होंने कहा कि  वैसे तो सरकार ने किशोरियों के लिए तमाम तरह की योजनाएं लागू की हैं, लेकिन किसी कारण स्कूल नहीं पहुंच पाने वाली किशोरियों को ध्यान में रखते हुए इस योजना की पहल की गई है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के जमीनी स्तर पर जुड़े होने के कारण विभाग ने इसका जिम्मा उन्हें सौंपा गया है। इसका वितरण मुख्य सेविका आंगनबाड़ी और पोषण सखी के माध्यम से किया  जायेगा। संबधितकंपनी के माध्यम से जिले के सभी ब्लाकों पर पहुंचा दिया गया है। उन्होंने बताया कि देशी घी में विटामिन ए, विटामिन के-2,विटामिन डी, विटामिन ई जैसे पोषक तत्व होते हैं जो हार्मोन बनाने और संतुलन के लिए जरूरी होते हैं।

जिला कार्यक्रम अधिकारी ने कहा कि स्कूल जाने वाली किशोरियों के लिए तो तमाम सरकारी योजनाएं हैं ,लेकिन जो किशोरियां किसी कारणवश स्कूल नहीं जा पातीं हैं उनकी सेहत के लिए यह एक नई पहल की गई है। इसमें ग्रामीण और शहरी दोनों ही जगह की किशोरियां शामिल हैं। 

 

More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »
More from सेहत जायकाMore posts in सेहत जायका »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.