Press "Enter" to skip to content

ब्रिटिश धर्मगुरु जस्टिन वेल्बी ने जलियांवाला बाग में फर्श पर लेट शहीदों को श्रद्धांजलि दी

अमृतसर: कैंटरबरी के आर्कबिशप रेवरेंड जस्टिन वेल्बी ने मंगलवार को जलियांवाला बाग हत्याकांड के लिए माफी मांगते हुए कहा कि इसने ‘गहरी शर्म की भावनाओं’ को उकसाया है। जस्टिन वेल्बी ने अमृतसर में जलियांवाला बाग की अपनी यात्रा के दौरान फर्श पर लेट कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

उन्होंने कहा, ‘आपको याद है कि उन्होंने क्या किया है और उनकी स्मृति जीवित रहेगी। मुझे शर्म आती है और यहां किए गए अपराध के लिए खेद है, एक धार्मिक नेता के रूप में मैं इस त्रासदी का शोक मनाता हूं।’ विजिटर्स बुक में वेल्बी ने लिखा, ‘100 साल पहले इस तरह के अत्याचारों को देखने वाले इस स्थान पर जाने पर गहरी शर्म की भावनाएं उमड़ती हैं।’

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘मुझे आज अमृतसर में भीषण जलियांवाला बाग नरसंहार के स्थल का दौरा करने के बाद शोक, विनम्रता और गहन शर्म की अनुभूति हुई। यहां, 1919 में बड़ी संख्या में सिखों- साथ ही हिंदुओं, मुसलमानों और ईसाइयों की भी ब्रिटिश सैनिकों द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।’

अपने एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि उनकी पहली प्रतिक्रिया दुख, हानि और क्रोध से पीड़ित लोगों के लिए भगवान से प्रार्थना करना है। और प्रार्थना का अर्थ है कि मुझे उन कार्यों के लिए भी प्रतिबद्ध होना चाहिए जो संस्कृति और धर्म के विभाजन को विभाजित करते हैं- हम एक साथ घृणा को जड़ से उखाड़ सकते हैं और आम भलाई की तलाश कर सकते हैं।’

More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.