Press "Enter" to skip to content

ग्रीन लैंड स्कूल में 53 वाँ स्थापना दिवस समारोह मनाया

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

मुजफ्फरनगर। ग्रीन लैंड माडर्न जू० हाई स्कूल में भारतीय योग संस्थान का 53 वाँ स्थापना दिवस समारोह धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि आर्यरत्न आचार्य गुरू दत्त आर्य व अध्यक्षता जिला बार संघ मुजफफर नगर के पूर्व महासचिव ओमसिह तोमर एडवोकेट ने की। संचालन योगाचार्य सुरेन्द्र पाल सिंह आर्य ने किया।

सर्व प्रथम महिला योग साधना केंद्र ग्रीन लैंड स्कूल मुजफफर नगर की केंद्र प्रमुख श्रीमती अर्चना सिंह ने ओउम् ध्वनि और गायत्री मंत्र से योग साधना शुरू कराई और तिर्यक ताडासन व अर्द्ध चन्द्रासन कराये।रजनी मलिक ने जानुसिरासन व कोणासन, केंद्र प्रमुख राजसिह पुण्डीर ने वज्रासन, उष्टरासन व मण्डूक आसन, बेबी सैनी नेभुजंग व शलभासन, राजीव रघुवंशी ने पादोत्तान आसन व सेतुबन्ध आसन कराएँ। सिंहासन व हँसी तथा कपालभाँति और भ्रामरी प्राणायाम जिला प्रधान पवन सिंह बालियान ने कराएँ। मुख्य वक्ता केंद्र प्रमुख राजसिह पुण्डीर ने योगासन का शरीर प्रभाव विषय पर बोलते हुए कहा कि नियमित योगाभ्यास करने से शरीर की समस्त प्रणालिया सुचारु रूप से कार्य करने लगती हैं।विजातीय तत्व शरीर से बाहर निकल जाते हैं और शरीर स्वस्थ बनता है। हमारा पाचन व निष्कासन सरल व सहज रूप से होता है। समस्त असाध्य रोगों एकमात्र उपचार योग है। योगाचार्य सुरेन्द्र पाल सिंह आर्य ने कहा कि भारतीय योग संस्थान एक अराजनैतिक संस्था है जो जातिवाद व सम्प्रदायवाद से ऊपर उठकर मानव मात्र के कल्याण के लिए कार्य करती है ।संस्थान की स्थापना 10 अप्रैल सन् 1967 को हुई थी। आज भारत वर्ष में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी संस्थान की लगभग 3400 योग कक्षाए निःशुल्क संचालित होती है।

मुख्य अतिथि आर्य रत्न आचार्य गुरू दत्त आर्य ने कहा कि योग से अध्यात्म का मार्ग प्रशस्त होता है। योग से मोक्ष की प्राप्ति होती है।योग भारतीय संस्कृति की पहचान है। यह भारतीय श्रषि-मुनियों की देन हैं। इस अवसर पर रजनी मलिक, बेबी सैनी, सरिता धीमान, यज्ञदत्त आर्य व जिला प्रधान पवन सिंह बालियान ने योगगीत व ईश्वर भक्ति के गीत प्रस्तुत किये। योगाचार्य सुरेन्द्रपाल सिंह आर्य ने सभी को आगामी 11 अप्रैल को मतदान करने का संकल्प दिलाया। अध्यक्ष ओमसिह तोमर एडवोकेट ने कहा कि जो लोग नियमित योग साधना करते हैं वो सुखी व स्वस्थ जीवन जीते हैं।योग एक जीवन जीने की कला है। कार्यक्रम में सैकड़ों साधक एवं साधिकाओ ने भाग लिया, जिसमें मुख्य रूप से विपिन शर्मा, रिशीपाल ,सत्यवीर पंवार, राजमोहन, अशोक कुमार, डा०जीत सिंह तोमर, राजेंद्र काम्बोज, पंकज कुमार, श्रीमती मुनेश देवी, रेखा शर्मा, रितू, सुदेश, कामेश मलिक अंकुर मान आदि उपस्थित रहे। अंत में प्रसाद वितरण के बाद कार्यक्रम का समापन वैदिक प्रार्थना और शांति पाठ से हुआ।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.
More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Mission News Theme by Compete Themes.