Press "Enter" to skip to content

रिर्जव बैंक के फैसले पर कांग्रेस ने उठाए सवाल,रेपो दर में कमी का फायदा आम लोगों को नहीं मिलेगा

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा रेपो दर में कमी किए जाने और विकास दर के नकारात्मक रहने का अनुमान लगाए जाने के साथ कर्ज पर ब्याज के भुगतान में मोहलत तीन महीने बढ़ाए जाने के फैसलों पर कांग्रेस पार्टी ने सवाल उठाते हुए कहा कि इससे देश में भयानक मंदी के संकेत मिलते हैं। कांग्रेस पार्टी प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने शुक्रवार को कहा कि रेपो दर में कमी का फायदा आम लोगों को नहीं मिलेगा क्योंकि कर्ज की मांग नहीं है। हां, राज्य सरकारों और केंद्र सरकार को सस्ता कर्ज लेने का फायदा हो सकता है। हमारे ऊपर इसका बड़ा दुष्प्रभाव रहेगा कि एफडी और बचत खाते पर ब्याज कम हो जाएगा। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक ने पहली बार यह माना कि मौजूदा वित्त वर्ष में जीडीपी विकास दर नकारात्मक रहेगी। इससे पहले अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों ने कहा था कि भारत की विकास दर -5 प्रतिशत तक गिर सकती है। इसका मतलब यह कि देश में भयानक मंदी के संकेत हैं। वल्लभ के मुताबिक कर्ज पर ब्याज के भुगतान में मोहलत को तीन महीने बढ़ा दिया गया। इससे सरकार कथनी और करनी में एक विरोधाभास साबित होता है। एक तरफ तो सरकार 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज से कर्ज की खुराक दे रही है। दूसरी तरफ, इस कदम से यह संदेश दे रही है कि कर्ज की मांग नहीं हैं।

More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.