Press "Enter" to skip to content

देश में 43.13 लाख के पार हुए कोरोना संक्रमित, अब तक 73,117 लोगों ने गंवाई जान

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के मामलों में हर दिन बढ़ोतरी हो रही है। मंगलवार को देश में एक महीने से अधिक समय बाद कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा 1273 मौतें दर्ज की गईं। अब तक देश में 43,13,963 कोरोना मरीज हो चुके हैं। वहीं मरने वालों की संख्या बढ़कर73,117 हो चुकी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार मंगलवार शाम आठ बजे तक कोविड-19 से बीते 24 घंटे में 1273 लोगों की मौत हुई है, जो जुलाई के बाद एक दिन में मृतकों की सबसे अधिक संख्या है। वहीं देश में मंगलवार को 89,949 नए मामले सामने आने के साथ संक्रमितों की संख्या बढ़कर 43,13,963 हो गई है। राहत की बात यह है कि बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। जानकारी के अनुसार अब तक 33,52,990 लोग ठीक हो चुके हैं। अब देश में सक्रिय मरीजों की संख्या 8,87,260 है, जिनका इलाज चल रहा है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) की ओर से जारी आंकड़े के मुताबिक, देशभर में सात सितंबर तक कुल 5,06,50,128 नमूनों की जांच की गई, जिनमें से सोमवार को एक दिन में 10,98,621 नमूनों की जांच की गई।

62 फीसदी केस पांच राज्यों में

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) की मंगलवार को हुई संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण, आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव और नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने बताया कि देश में कोरोना वायरस से ठीक होने वाली मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ रही है और मृत्यु दर में कमी देखने को मिल रही है। उन्होंने कहा कि देश में पांच राज्य ऐसे हैं जिनमें देश के कुल सक्रिय मामलों के 62 फीसदी मामले हैं। इसमें महाराष्ट्र में 27 फीसदी, आंध्र प्रदेश में 11 फीसदी, कर्नाटक में 10.98 फीसदी, उत्तर प्रदेश में लगभग सात फीसदी और तमिलनाडु में लगभग छह फीसदी मामले हैं।

वैक्सीन पर रूस ने किया संपर्क

नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने बताया कि रूस ने कोविड-19 के लिए जो वैक्सीन विकसित की है उस पर  हमारी सरकार से हमारी कंपनियों के नेटवर्क से वैक्सीन के उत्पादन और भारत में तीसरे चरण के अध्ययन के लिए मदद मांगी थी। डॉ. पॉल ने कहा कि भारत सरकार मित्र देश रूस की ओर से की गई भागीदारी की इस पेशकश का सम्मान करती है। उन्होंने कहा कि दोनों ही पहलुओं पर अहम प्रगति हुई है। बता दें कि रूस की वैक्सीन स्पुतनिक वी के तीसरे चरण का ट्रायल इसी महीने से भारत समेत पांच देशों में शुरू होगा।

 

यह भी  पढ़ें-सांसदों को निगेटिव कोरोना रिपोर्ट दिखाने पर ही मिल सकेगी संसद में प्रवेश

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.