Press "Enter" to skip to content

बेटियों को केवल पूजना ही नहीं, उन्हें बचाना भी है – भाजपा सांसद

मेरठ। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के बृहस्पति भवन में सोमवार को राष्ट्रीय पोषण माह के तहत किशोरी-बालिका दिवस मनाया गया। किशोरियों को पोषण पोटली का वितरण करते हुए सांसद राजेन्द्र अग्रवाल ने कहा, केन्द्र व राज्य सरकार देश से कुपोषण को समाप्त करने के लिये कार्य कर रही है। इसी को देखते हुए राष्ट्रीय पोषण माह प्रदेश भर में मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बेटियों को केवल पूजना ही नहीं बल्कि उन्हें बचाना भी है। इन्हें सबकी लाडली लक्ष्मी बनाना है। आज की किशोरी भविष्य की महिला है। उन्होंने कार्यक्रम में आये सभी विभागों के अधिकारियों से देश से कुपोषण को समाप्त करने के लिये एक दूसरे को सहयोग करने का आग्रह किया।

कार्यक्रम का शुभारंभ सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, जिला अधिकारी अनिल ढीगड़ा, सीडीओ ईशा दूहन, सीएमओ डा. राजकुमार ने मॉ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम के आरंभ में कस्तूरबा गांधी स्मारक प्राइमरी स्कूल की छात्राओं ने स्वागत गीत पर नृत्य किया। इस दौरान मार्शल आर्ट के माध्यम से किशोरियों को आत्म रक्षा के गुर बताए गये। वहीं बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं कार्यक्रम के तहत कस्तुरबा गांधी स्मारक स्कूल मवाना की छात्राओं ने नुक्कड़ नाटक के माध्यम से 18 साल से कम उम्र में शादी होने पर आने वाली परेशानी को नाटिका के माध्यम से बताया।

इस अवसर पर सीएमओ डा. राजकुमार ने स्वास्थ्य सेवाओं पर विभाग की ओर से किये जा रहे प्रयास पर प्रकाश डालते हुए कहा, प्रदेश सरकार की ओर से चल रही योजनाओं का लाभ लाभार्थियों को दिया जा रहा है। विभाग की ओर से पोलियो, परिवार नियोजन, क्षय रोग व संचारी रोग पर विशेष अभियान चलाये जा रहे हैं। उन्होंने स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की बात कही। उन्होंने कार्यक्रम में आई किशोरियों से कहा कि शौच करने के बाद साबून से हाथ जरूर धोएं। ऐसा न करने से बीमारियों की आशंका पैदा हो जाती है। उन्होंने किशोरियों से कहा कि वह माहवारी के दौरान कपड़े के बजाय सेनेटरी नैपकिन का प्रयोग करें। इससे कई बीमारियों से बचा जा सकता है।

जिला अधिकारी अनिल ढीगड़ा ने कहा, केन्द्र व प्रदेश सरकार की ओर से स्वास्थ्य सबंधी विभिन्न योजनाएं चलायी जा रही हैं। इनका लाभ लाभार्थियों को दिया जा रहा है। उन्होंने कहा, राष्ट्रीय पोषण मिशन प्रधानमंत्री की प्राथमिक योजनाओं में से एक है। उन्होंने कार्यक्रम में आयीं किशोरियों का आह्वान किया कि वह अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहें। सीडीओ ईशा दूहन ने कहा, राष्ट्रीय पोषण माह को प्रदेश में मनाने का मकसद किशोरियों को कुपोषण से मुक्त कराना है। क्योंकि एक कुपोषित किशोरी ही उसका दर्द समझ सकती है। उन्होंने किशोरियों का आह्वान किया व वह अपने आपको जागरूक करें।

इस अवसर पर बेसिक शिक्षा अधिकारी सतेद्र कुमार ने मीणा मंच के बारें में जानकारी दी। उन्होंने बताया,14 साल की किशोरियों को स्वास्थ के प्रति जागरूक करने के लिये मीणा मंच बनाया गया है, जिसमें 30-30 बालिकाओं की टोली बनायी गयी हैं। एक टोली में एक शिक्षक को रखा गया हैं। जो हर शनिवार को छात्राओं से स्वास्थ्य संबधी समस्याओं पर विस्तार से चर्चा करती हैं, उनका समाधान बताती हैं। इसके अतिरिक्त सुपोषण के लिये छात्राओं को प्रेरित किया जा रहा है। छात्राओं को डायल-100, 102, 108 व 1090 के बारे में जागरूक किया जा रहा है। उनका किस समय पर प्रयोग किया जा सकता है, यह बताया जा रहा है। इस मौके पर 200 किशोरियों को मंच से  पोषण पोटली का वितरण किया गया। इस अवसर पर डीआईओएस, जिला कार्यक्रम अधिकारी और विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.