Press "Enter" to skip to content

विदेशी जमातियों को छोड़ने का फैसला टला, हाईकोर्ट ने केंद्र और दिल्ली सरकार से मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। तब्लीगी जमात से जुड़े 916 विदेशी जमातियों को छोड़ने की याचिका पर शुक्रवार को दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने विदेशी जमातियों की याचिका पर सुनवाई करते हुए केंद्र और दिल्ली सरकार  से स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। अब 26 मई को इस मामले पर दोबारा सुनवाई होगी।दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि इस मामले को डबल बेंच को ट्रांसफर कर दिया गया है, लेकिन उससे पहले दोनों सरकारों को कोर्ट में रिपोर्ट पेश करनी होगी। आरोप है कि यह विदेशी जमाती लॉकडाउन के दौरान निजामुद्दीन  स्थित मरकज में हुए एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे।

चार्टड प्लेन से दिल्ली आने-जाने के भी लगे आरोप-निजामुद्दीन स्थित मरकज मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को तब्लीगी जमातियों से जुड़ी एक अहम जानकारी मिली है। मरकज से जुड़े कुछ विदेशियों का चार्टड प्लेन से दिल्ली आना-जाना था। बीते मार्च महीने में कोरोना का संक्रमण फैलने पर भी कुछ विदेशी जमाती चार्टड प्लेन से अपने देशों को गए थे। यह जानकारी मिलते ही क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद पर और शिकंजा कस दिया है। चार्टड प्लेन से दिल्ली आने-जाने वाले विदेशी जमातियों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। वहीं दूसरी ओर मौलाना साद के बेटे सईद से कुछ कागजात भी मांगे गए हैं। जमातियों के आने-जाने और रुकने से जुड़े कागजात भी मांगे गए हैं।

दिल्ली पुलिस का दावा-दिल्ली पुलिस के सीनियर अफसरों का कहना है कि हमारी टीम मौलाना साद तब्लीगी जमात के मरकज और बाकी के आरोपियों से जुड़ी हर तफ्तीश की अलग-अलग फाइल तैयार कर रही है। हमारा फोकस मनी ट्रेल की जांच करना, मरकज में आए लोगो की भूमिका की जांच करना, हवाला कनेक्शन की जांच करना है। इसके साथ ही विदेशी चंदे की जांच और मरकज के कामकाज की हर बारीक से बारीक जानकारी की तफ्तीश भी हम कर रहे हैं। मरकज से जुड़े हर एक बैंक अकाउंट पर भी हमारी निगाह है। बहुत सारी अहम जानकारियां निकलकर सामने आई हैं। अभी उन्हें गोपनीय रखा गया है और वक्त आने पर उनका खुलासा कर दिया जाएगा।

More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.