Press "Enter" to skip to content

संसद भवन परिसर को कोविड फ्री बनाने की कवायद तेज

नई दिल्ली। संसद का मानसून सत्र शुरू होने से पहले व्यापक तैयारी की गई थी। कोरोना संक्रमण की छाया से संसद परिसर को मुक्त रखने के लिए सांसदों, कर्मचारियों और पत्रकारों की जांच की गई है। सूत्रों ने बताया कि सोमवार से शुरू हुए मानसून सत्र में स्वास्थ्य मंत्रालय की सभी गाइडलाइंस का कड़ाई से पालन किया गया। संसद में उन्हीं सांसदों, कार्मिकों को जाने की इजाजत दी गई, जिनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव होगी। कोविड-19 महामारी के मद्देनजर कागज का कम से कम उपयोग करने का प्रयास किया जा रहा है। सांसद अपनी उपस्थिति डिजिटल माध्यम से दर्ज कराएंगे। सदन में प्रवेश करने वाले सभी लोगों के शरीर के तापमान को जांचने के लिए थर्मल गन और थर्मल स्कैनर का उपयोग किया जाएगा। सदन के भीतर 40 स्थानों पर टचलेस सैनिटाइटर लगाए जाएंगे और आपातकालीन मेडिकल टीम और स्टैंडबाय पर एम्बुलेंस की सुविधा भी होगी। कोविड-19 रोकथाम से संबंधित सभी दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन किया जाएगा।

गाइडलाइन के मुताबिक इंतजाम-निरीक्षण के बाद लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि संसद का मानसून सत्र विपरीत परिस्थितियों में आयोजित किया जा रहा है। मानसून सत्र के लिए स्वास्थ्य सुरक्षा के माकूल इंतजाम किए गए हैं। केंद्र सरकार की गाइडलाइंस तथा विशेषज्ञ संस्थानों के सुझावों का पालन करते हुए सभी स्थानों पर सैनिटाइजेशन व अन्य व्यवस्थाएं माकूल रहें, यह सुनिश्चित किया गया है।

उपचार की भी व्यवस्था-लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि सत्र से पूर्व सभी सांसदों व उनके परिजनों का कोरोना टेस्ट करवाया गया है। सभी सांसदों को सैनेटाइजर, मास्क, ग्लब्ज सहित अन्य स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधी सामग्री की किट भेजी गई है। संसद के सभी अधिकारियों-कर्मचारियों का भी टेस्ट करवाया गया। सत्र की पूरी अवधि के दौरान परिसर में टेस्ट की सुविधा रहेगी। उन्होंने कहा कि यदि किसी सदस्य को स्वास्थ्य संबंधी शिकायत होती है तो उनके उचित उपचार की पूरी व्यवस्था की गई है।

सभी सांसदों को दी गई है सुरक्षा संबंधी किट-लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बताया कि सत्र से पूर्व सभी सांसदों व उनके परिजनों का कोरोना टेस्ट करवाया गया है। सभी सांसदों को सैनेटाइजर, मास्क, ग्लब्ज सहित अन्य स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधी सामग्री की किट भेजी गई है। संसद के सभी अधिकारियों-कर्मचारियों का भी टेस्ट करवाया गया। सत्र की पूरी अवधि के दौरान परिसर में टेस्ट की सुविधा रहेगी। उन्होंने कहा कि यदि किसी सदस्य को स्वास्थ्य संबंधी शिकायत होती है तो उनके उचित उपचार की पूरी व्यवस्था की गई है।

More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.