Press "Enter" to skip to content

मतभेद भूलकर दिल्ली में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मिलाएं हाथ: अमित शाह

नई दिल्ली। सर्वदलीय बैठक की अध्यक्षता के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को कहा कि दिल्ली में सभी राजनीतिक दलों को अपने मतभेद भूलकर राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 की लड़ाई में हाथ मिलाना चाहिए। भाजपा, आम आदमी पार्टी, कांग्रेस और बसपा के नेताओं ने इस बैठक में शिरकत की। शाह ने चारों दलों से अपने कार्यकर्ताओं को दिल्ली सरकार के कोरोना वायरस के दिशा-निर्देशों को जमीनी स्तर पर लागू करवाने में मदद करने की अपील करने को कहा। शाह ने कहा कि इन कदमों से जनता का विश्वास बढ़ेगा और दिल्ली में कोविड-19 की स्थिति में जल्द सुधार होगा। बैठक के बाद उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक दलों को अपने मतभेद भुला देने चाहिए और दिल्ली के लोगों के लिए साथ मिलकर काम करना चाहिए। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि हमें नए उपाय अपनाकर दिल्ली में कोविड-19 की जांच बढ़ानी है। दिल्ली में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से हो रही बढ़ोतरी के मद्देनजर यह बैठक की गयी। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि शाह ने महामारी के प्रसार को रोकने के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में नेताओं को अवगत कराया और मुद्दे पर उनके विचार जाने। दिल्ली में 41,000 से अधिक लोग संक्रमित हैं और 1,300 से अधिक लोगों की संक्रमण से मौत हो चुकी है।

शाह ने एलएनजेपी अस्पताल का दौरा किया-गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को यहां एलएनजेपी अस्पताल का दौरा कर कोविड-19 से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।उन्होंने बताया कि गृह मंत्री ने अस्पताल के सम्मलेन कक्ष में वरिष्ठ चिकित्सकों से मुलाकात की जिन्होंने उन्हें अस्तताल में उपचाररत मरीजों, वहां हुई मरीजों की मौत और दिल्ली के बाहर के भर्ती मरीजों समेत अन्य बिंदुओं पर जानकारी दी। उन्होंने कहा कि शाह ने अस्पताल में कोविड-19 के मरीजों की मौत, उनके ठीक होने की दर और अन्य विषयों पर जानकारी ली।

20 जून से हर रोज 18 हजार टेस्ट‘-बैठक में शामिल दलों ने राय दी। दिल्ली बीजेपी चीफ आदेश कुमार गुप्ता ने कहा कि बैठक में शाह ने कहा कि 20 जून तक दिल्ली सरकार हर रोज 18 हजार कोरोना के टेस्ट करेगी।

कांग्रेस का आप पर आरोप-कांग्रेस ने बैठक के बाद आप पर कोरोना के आंकड़े छिपाने का आरोप लगाए। राज्य के प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी ने बैठक के बाद कहा, ‘ कोरोना फैलने के लिए सीधे तौर पर दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार जिम्मेदार है। हमनें 11 पॉइंट सजेशन के तौर पर दिए हैं। एलजी साहब को सुझाव दिए थे। हमने कहा कि कॉलेज और हॉस्टल की सुविधा लेनी चाहिए। दिल्ली के सीएम गुमरारह कर रहे हैं। प्राइवेट अस्पतालों को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। हमने एक पत्र सबूत के तौर पर सौंपा है, गृह मंत्री को, उन्होंने इसे जांच के लिए भेजा है।’

कांग्रेस पर आप का पलटवार-बैठक में शामिल आप के प्रतिनिधि संजय सिंह ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना को द्वितीय विश्वयुद्ध से भी बड़ा बताया था। आने वाले कुछ दिनों में राज्य सरकार के अस्पतालों में 1,900 बेड, केंद्र के अस्पतालों में 2,000 बेड, निजी अस्पतालों में 1,178 बेड बढ़ने वाले हैं। इसके अलावा रेलवे कोच के जरिए कुल 16,000 बेड बढ़ेंगे। कांग्रेस के आरोपों पर आप ने कहा कि भला आंकड़े कौन छिपा सकता है। उन्होंने कहा, ‘आप ICMR से पता कर लें। दिल्ली देश में सबसे ज्यादा रोजना 15 हजार टेस्ट कर रही है। दूसरे नंबर पर तमिलनाडु हैं जहां हर रोज 7.5 हजार टेस्ट हो रहे हैं। इन टेस्टों की लैब्स में जांच होती है। आलोचना करना है तो कुछ भी करिए। कोई रोक तो है नहीं।’ उन्होंने कहा कि बैठक में गृह मंत्री शाह ने कहा कि इस वक्त सभी को मिलकर चलने की जरूरत है।

दिल्ली में फिर से लॉकडाउन की कोई योजना नहीं-मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस के मामलों में लगातार वृद्धि के बावजूद दिल्ली में फिर से लॉकडाउन लगाने की कोई योजना नहीं है। केजरीवाल ने ट्वीट किया, कई लोग अटकल लगा रहे हैं कि क्या दिल्ली में फिर से लॉकडाउन लगाने की योजना बनाई जा रही है। ऐसी कोई योजना नहीं है। एक दिन पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने केजरीवाल, उपराज्यपाल अनिल बैजल और तीन महापौरों के साथ कोविड-19 की स्थिति से निपटने की रणनीति पर चर्चा की थी।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.