Press "Enter" to skip to content

श्री राम कॉलेज मे हुआ फॉर्मेसी सप्ताह का आयोजन,उद्देश्य रहा दवाई लेने से पहले नागरिक को शिक्षित करना

मुजफ्फरनगर। श्री राम कॉलेज ऑफ फॉर्मेसी में फॉर्मेसी सप्ताह का आयोजन किया गया। जिसका मूल उद्देश्य लोगों को दवाई लेने से पहले शिक्षित करना रहा। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि मुख्य चिकित्सा अधिकारी, प्रेमशंकर मिश्रा और विशिष्ट अतिथि, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी बी0के0 ओझा रहे।
श्रीराम कॉलेज ऑफ फॉर्मेसी द्वारा आयोजित फार्मेसी सप्ताह में विद्यार्थियों की कलात्मकता को निखारने और प्रयोगात्मक रूप से जानकारी देने के लिए रक्त संरचना तथा गुर्दे की कार्य प्रणाली विषय पर पॉवर प्वाइंट प्रजेंटेशन और बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ आदि विषयो पर रंगोली प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। इसके साथ ही विद्यार्थियों के लिए मेडिकल चेक-अप कैंप का भी आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थियों ने बढ़चढ़कर प्रतिभाग किया। जहां एक ओर विद्यार्थियों द्वारा रक्त संरचना और गुर्दे की कार्य प्रणाली पर तैयार पॉवर प्वाइंट प्रजेंटेशन में प्रथम पुरस्कार यश कपूर ने प्राप्त किया। जिसमें उन्होंने शरीर के अहम भाग गुर्दे के खराब होने के कारणों पर प्रकाश डाला। वहीं दूसरी ओर रंगोली प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार फरहीन अंजुम, द्वितीय पुरस्कार नीलम ठाकुर और तृतीय पुरस्कार शैली चौधरी को दिया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि मुजफ्फरनगर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी, प्रेमशंकर मिश्रा ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि व्यक्ति का मानसिक बल ही उसकी असली शक्ति है। उन्होंने कहा कि वर्तमान युग में व्यक्तियों को कई सारी चुनौतियों का सामना करना पड रहा है। ऐसे में अगर इच्छा शक्ति दृढ़ नहीं होगी तो व्यक्ति चुनौतियों के बीच में ही उलझकर रह जाएगा। इसके अतिरिक्त उन्होंने विद्यार्थियों को प्रेरित करते हुए कहा किसी भी विषय को रटने की बजाए उसके वैज्ञानिक तथ्यों को आधार बनाकर अध्ययन करना चाहिए। उन्होंने विद्यार्थियों को पौधों की मजबूत जड़ों और उच्च इच्छा शक्ति का उदाहरण देते हुए कहा कि जिन पौधों की जड़े मजबूत होती हैं, वे भयंकर तूफानों में भी खड़े रहते हैं।
इस अवसर पर कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी, बी0के0 ओझा ने विद्यार्थियों को समय की महत्वता के बारे में बोलते हुए कहा कि वर्तमान के इस प्रतिस्पर्द्धात्मक युग में विद्यार्थियों के लिए समय प्रबंधन बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि फॉर्मेसी एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें समय का अगर सदुपयोग न किया जाए तो दवाईयों के उत्पादन में प्रयोग होने वाले रसायनों का प्रभाव खत्म हो जाएगा।
श्रीराम कॉलेज ऑफ फार्मेसी के निदेशक डा0 गिरेन्द्र कुमार गौतम ने कहा कि वर्तमान समय में फॉर्मेसी एक ऐसा क्षेत्र है जो उपलब्ध असीम संभावनाओं के साथ युवा पीढी को खूब लुभा रहा है। अतः इस क्षेत्र में क्षमतावान विद्यार्थी अपने भविष्य को सशक्त तो बना ही सकते हैं, साथ ही सफलता की ऊंचाईयों को भी छू सकते हैं। उन्होंने कहा कि गंभीरता से किया गया विषय का अध्ययन इस क्षेत्र में विद्याथियों के ज्ञान को तो विकसित करता ही है साथ ही असाध्य रोगों को साध्य बनाने के लिए औषधियों के आविष्कार को भी संभव बनाता है।
कार्यक्रम में श्रीराम कॉलेज के निदेशक डा0 आदित्य गौतम, श्रीराम कॉलेज कॉर्डिनेटर, प्रेरणा मित्तल, अवनिका त्यागी, श्वेता पुण्डीर, सोनू कुमार, टिंकू कुमार, छवि गुप्ता, शफकत जैदी और रोहित मलिक आदि मौजूद रहे।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.