Press "Enter" to skip to content

पूर्ति निरीक्षक को कारण बताओ नोटिस के साथ कोटेदार का अनुबन्ध समाप्तः जिलाधिकारी

मुज़फ्फरनगर। जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली में अनियमिताओं की आ रही शिकायतो पर पीडीएस सिस्टम पर सर्जिकल स्ट्राइक करते हुए पूर्ति निरीक्षक अनिल कुमार तहसील सदर को कार्य/पर्यवेक्षण में शिथिलता बरतने व अपने क्षेत्र में खादान्न का वितरण सुचारू रूप से न कराने के सम्बन्ध में कारण बताओ नोटिस जारी कर ग्राम कुटेसरा के कोटेदार द्वारा राशन व मिटटी के तेल का वितरण न कराये जाने, ग्रामवासियों से अभद्र व्यवहार किये जाने व राशन कार्डों के वितरण पर अनुबन्ध निरस्त कर दिया गया है। जिलाधिकारी ने कहा कि यह कार्यवाही अब जारी रहेगी। उन्होने कहा कि पूर्ति निरीक्षक अपनी कार्यप्रणाली सुधार ले अन्यथा उसके गभीर परिणाम भुगतने होगे। उन्होने कहा कि पूर्व में बैठक कर स्पष्ट निर्देश दिये गये थे कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली में किसी भी प्रकार की गडबडी की शिकायत मिलने पर सम्बन्धित पूर्ति निरीक्षक के विरूद्व कडी कार्यवाही कर दी जायेगी।

जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली में मिल रही शिकायतों के सम्बन्ध में आज मिट्टी के तेल के थोक विक्रेताओं के साथ कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक कर उन्हे स्पष्ट संदेश दिया कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली में भ्रष्टाचार किसी भी स्तर पर बर्दाश्त नही होगा। पाप के भागीदार न बने, पूर्ण पारदर्शिता व साफ नियत से कार्य करें। उन्होने कहा कि अपनी कार्यप्रणाली को सुधार ले अन्यथा कडी कार्यवाही के लिए तैयार रहे। पूर्ण पारदर्शिता के साथ कार्य करें। उन्होने यह भी कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली जरूरतमंदों के लिए है। जरूरतमंदों के हिस्से का मिट्टी का तेल उन तक प्रत्येक दशा में पहुंचना चाहिए। उन्होने थोक विक्रेताओं से स्पष्ट शब्दों में कहा कि जब तक जनपद में मेरा कार्यकाल है कोई सार्वजनिक वितरण प्रणाली में अनियमितता को लेकर शिकायत आई या जहां पर गडबडी मिलेगी सम्बन्धित थोक विक्रेताओं, पूर्ति निरीक्षक व अन्य सम्बन्धित अधिकारी, कोटेदार के विरूद्व तत्काल रिपोर्ट दर्ज कर गैगस्टर तक की कार्यवाही कराई जायेगी।

जिला पूर्ति अधिकारी सुनील पुष्कर ने जिलाधिकारी को मिट्टी के तेल के गोदाम मे आने से लेकर कोटेदारों को वितरण किये जाने तक के सम्बन्ध में पूरी वितरण प्रणाली की प्रकिया के बारे में जानकारी दी। जिलाधिकारी ने कहा कि दुकान पर तेल पहुचने पर कोटेदार द्वारा जिला पूर्ति अधिकारी, सत्यापन अधिकारी व एसडीएम को तत्काल इसकी सूचना देनी होगी। उन्होने निर्देश दिये केटेदार द्वारा गोदाम से राशन/मिटटी के तेल के उठान पर सम्बन्धित वाहन जो भी हो उस पर जीपीएस सिस्टम लगाया जाये। और उसकी पूरी मूवमेंट की जानकारी रखी जाये। उन्होने कहा कि गांव में प्रवेश से पहले चौक पाइंट बनाया जाये। उन्होने कहा कि चोरी, मिलावट व कमीशनखोरी बर्दाश्त नही की जायेगी। उन्होने कहा कि गडबडी पाये जाने पर पूर्ति निरीक्षक सहित सम्बन्धित जो भी इसमें शामिल हेगे के विरूद्व गिरोह अधिनियम के तहत कार्यवाही करेगे। उन्होने कहा कि गैगस्टर तक की कार्यवाही प्रस्तावित कर दी जायेगी। उन्होने थोक विक्रेताओं को सचेत करते हुए कहा कि कोई भी गैर कानूनी कार्य न करे। यदि गडबडी में सलिंप्ता पाई जाती है तो तत्काल एफआईआर दर्ज कराते हुए कडी कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। इसलिए गलत कार्य करने से पहले हजार बार सोच ले। ऐसा कोई कार्य न करे जिससे छवि खराब हो कार्यवाही कराने के कार्य न करे।

जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिये कि खादान्न/मिटटी के तेल की आपूर्ति समय से कराना सुनिश्चत किया जाये। जहां कही कोई दिक्कत आ रही है तो संज्ञान में लाया जाये। उनहोने कहा कि एसडीएम को निर्देशित कर दिया गया है कि कोटेदारों के साथ बैठक कर उन्हे अच्छी तरह से समझा दिया जाये कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली मे कोई गडबडी हुई तो बख्शा नही जायेगा। इस अवसर पर जिला पूर्ति अधिकारी सुनील पुष्कर, संयुक्त निदेशक अभियोजन, अभियोजन अधिकारी सहित मिट्टी तेल के थोक विक्रेताओं सहित सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।

More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.