Press "Enter" to skip to content

आशा कार्यकर्ता अब 15 महीने तक करेंगी शिशुओं की देखभाल

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

मुजफ्फरनगर- शिशु मृत्युदर पर अंकुश लगाने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के होम बेस्ड न्यू बार्न केयर (एचबीएनसी) कार्यक्रम के तहत शिशुओं की घरेलू देखभाल की समय सीमा बढ़ाई जा रही है। नई व्यवस्था शुरू होने पर आशा कार्यकर्ता 42 दिन की जगह15 माह तक शिशु की देखभाल करेंगी। इसके लिएआशा बहुओं को उन्हें जल्दी ही ट्रेनिंग दी जाएगी।

सीएमओ डॉ. पी एस मिश्रा ने बताया कि जल्द ही आशा कार्यकर्ताओं की ट्रेनिंग कराई जाएगी। इस संबंध में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश के निदेशक का पत्र प्राप्त हुआ है। जिसमें कहा गया है कि अब तक आशा द्वारा प्रसव के 42 दिन तक छह से सात बार घर पर जाकर नवजात और माता की देखभाल करनी होती थी। अब इस भ्रमण कार्यक्रम का विस्तार किया गया है।

सीएमओ ने बताया कि अब आशाओं को शिशुओं का शारीरिक विकास सुनिश्चित करने और स्वास्थ्य पोषण व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए शिशुओं की देखभाल के लिए हर तीन माह के अंतराल पर घर जाकर चेक करना होगा। शिशु की आयु 15 माह होने तक आशा को गृह भ्रमण करके उसके स्वास्थ्य से संबंधित हर पहलू की निगरानी करनी होगी। इस कार्यक्रम का उद्देश्य बाल मृत्युदर को कम करना, बच्चों में होने वाली बीमारियों को कम करना, पोषण में सुधार लाना और आरंभिक बाल विकास को सुनिश्चित करना है।

मुख्य चिकित्साधिकारी पी एस मिश्रा ने बताया कि होमबेस्ड न्यूबार्न केयर (एचबीएनसी) कार्यक्रम जिले में जल्द शुरू होगा। इस कार्यक्रम के तहत आशा कार्यकर्ता 42 दिन तक संस्थागत प्रसव में छह बार और गृह प्रसव में सात बार नवजात शिशुओं एवं धात्री माताओं के स्वास्थ्य की घरेलू देखभाल कर स्वस्थ एवं सुरक्षित रखने की जानकारी देंगी। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य छोटे बच्चों के पोषण के स्तर में सुधार ,समुचित विकास,औरबाल्यावस्था में होने वाली बीमारियों जैसे डायरिया, निमोनिया के कारण होने वाली मृत्यु से बचाव करना है। कहा कि नई व्यवस्था शुरू होने पर आशा कार्यकर्ता 42 दिन की जगह 15 माह तक शिशु की देखभाल करेंगी। ब्लॉक स्तर पर आशाओं को इसके लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि वह अपने अपने क्षेत्र में कार्य बेहतर तरीके से कर सकें। कार्यक्रम में आशा कार्यकर्ता गृह भ्रमण कर माँ- बच्चे को स्वस्थ रखने, मां को खानपान के साथ साथ बच्चे को शुरू के छह माह तक केवल स्तनपान कराने, बच्चे को छूने से पूर्व हाथ धोने, बच्चा कहीं निमोनिया का शिकार तो नहीं हो रहा है आदि गतिविधियों की जानकारी देंगी।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Be First to Comment

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Mission News Theme by Compete Themes.