Press "Enter" to skip to content

चीनी सैनिकों की वापसी के बावजूद सतर्क भारत,रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख में की हालात की समीक्षा

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले इलाकों से चीन के सैनिकों के वापस जाने के मद्देनजर सेना के शीर्ष अधिकारियों के साथ स्थिति की समग्र समीक्षा की। सरकारी सूत्रों ने बताया कि रक्षा मंत्री ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत, थलसेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह और वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया तथा अन्य वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के साथ बैठक में स्थिति की समीक्षा की। सूत्रों के अनुसार जनरल नरवणे ने गलवान घाटी, गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स और पैगोंग सो के फिंगर 4 क्षेत्र से सैनिकों को हटाने के लिए बनी आपसी सहमति के पहले चरण के क्रियान्वयन का विस्तृत ब्योरा दिया। उन्होंने बताया कि सेना प्रमुख ने किसी भी स्थिति से निपटने के लिए क्षेत्र में भारतीय सेना की अभियानगत तैयारियों (ऑपरेशनल प्रेपरेशंस) के बारे में रक्षा मंत्री को जानकारी दी और साथ ही पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हालात के अलावा अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड और सिक्किम के सभी संवेदनशील इलाकों में मौजूदा स्थिति के बारे में भी उन्हें अवगत कराया।

तीन इलाकों में बना बफर जोन-सरकारी सूत्रों के मुताबिक, सैनिकों को हटाने का पहला चरण पूरा होने वाला है। ऐसे में दोनों पक्ष अगले सप्ताह की शुरुआत में कमांडर स्तर की चौथे दौर की बातचीत के लिए तैयार हैं जिसमें दोनों देशों के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से सैनिकों को पीछे हटाने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि दोनों पक्षों ने अस्थायी कदम के तौर पर गतिरोध वाले तीन इलाकों- गलवान घाटी, गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स में तीन किलोमीटर का बफर जोन बनाने का काम पूरा कर लिया है।

30 जून को कमांडर स्तर की मीटिंग-सूत्रों के मुताबिक अगले हफ्ते फिर से दोनों देशों के बीच कोर कमांडर स्तर की मीटिंग होनी यह कोर कमांडर स्तर की चौथी मीटिंग होगी। इससे पहले 30 जून को कोर कमांडर स्तर की मीटिंग हुई थी। इस मीटिंग में पैंगोंग एरिया पर डिसइंगेजमेंट की बात तो होगी ही, साथ ही सबसे अहम बात होगी सैनिकों की संख्या कम करने की। ईस्टर्न लद्दाख पर एलएसी के दोनों तरफ दोनों देशों ने हजारों की संख्या में सैनिक तैनात किए हैं जिन्हें पीछे करना असल टास्क है।

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.