Press "Enter" to skip to content

जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने सरकार पर लगाया अनदेखी का आरोप

मुजफ्फरनगर। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने भाजपा एवं केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि उन्होंने जाट समाज को धोखा देने का काम किया है अब चूंकि लोकसभा चुनाव सिर पर है ऐसे में जाटों को आरक्षण के मुद्दे पर एकजुट होकर अपनी आवाज को बुलंद करना चाहिए ओर इस लोकसभा चुनावों में भाजपा प्रत्याशी का खुलकर विरोध करना है। रूड़की रोड पर एक रेस्टोरेंट पर आयोजित पत्रकार वार्ता में पत्रकारों से बातचीत करते हुए यशपाल मलिक ने कहा कि स्वंय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पिछले चुनावों में जाट प्रतिनिधियों को दिल्ली बुलाकर अनेक वादे किये थे लेकिन कोई भी वादा वे पूरा नहीं कर पाये जिसके कारण जाट समुदाय में बेहद रोष है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र में जाटों को ओबीसी की श्रेणी में शामिल नहीं किया गया। उनका आरोप है कि हरियाणा के जाट भाईयों पर फर्जी मुकदमे कराकर उन्हे जेलों में डाला गया जबकि सेना पर पत्थरबाजी करने वालो के मुकदमे वापस ले लिये और जाटों पर दर्ज मुकदमे अभी तक वापस नहीं लिये गये। ऐसे में जाट समाज बेहद उदवलित है। उन्होंने कहा कि जाट गठबंधन प्रत्याशी चौ. अजित सिंह के साथ है और बीजेपी प्रत्याशी को हराने में सक्षम होंगे क्योंकि उनके पास दलित, मुस्लिम और पिछडे वर्ग के लोगों का समर्थन है।
इस अवसर पर जयप्रकाश शास्त्री, कंवरपाल सिंह, मा. ब्रहमपाल बालियान, जोगेंद्र सिंह, बालेंद्र सिंह, जवाहर सिंह, अनिल कुमार, ब्रजवीर सिंह अदि लोग भी मौजूद रहे।

More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.