Press "Enter" to skip to content

एम मोदी ने एनसीपी और बीजेडी की तारीफ:भाजपा समेत सभी दलों को सबक लेने की दी नसीहत

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राज्यसभा में कहा है कि राज्यसभा के बिना देश का विकास संभव नहीं है। उन्होंने 250वें सत्र पर सभी सदस्यों को बधाई देते हुए अभिनंदन किया।

राज्यसभा के 250वें सत्र के मौके पर विशेष कार्यवाही के रूप में भारतीय शासन-व्यवस्था में राज्यसभा की भूमिका और सुधारों की आवश्यकता पर विशेष चर्चा की शुरूआत करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि राज्यसभा भारत की विकास यात्रा का प्रतिबिंब है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के बयान के हवाले से उन्होंने कहा कि राज्यसभा सेकंड हाउस है सेकंडरी (गौण, महत्वहीन) नहीं और भारत के विकास के लिए इसे सपोर्टिव हाउस बने रहना चाहिए। इस दौरान उन्होंने राकांपा और बीजद की इसलिए तारीफ की कि उनके सांसद कभी वेल में नहीं जाते। पीएम मोदी ने कहा कि इन दोनों दलों से भाजपा समेत हम सभी दलों को सीखने की जरूरत है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछले 5 साल का समय देखें तो यही सदन है जिसने तीन तलाक का बिल पास करके महिला सशक्तिकरण का बहुत बड़ा काम किया। इसी सदन ने सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया, लेकिन कहीं विरोधभाव पैदा नहीं हुआ। सब जगह सहयोग का भाव बना। कश्मीर से धारा 370 को हटाया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि इस सदन का एक और लाभ भी है कि हर किसी के लिए चुनावी अखाड़ा पार करना बहुत सरल नहीं होता है, लेकिन देशहित में उनकी उपयोगिता कम नहीं होती है, उनका अनुभव, उनका सामर्थय मूल्यवान होता है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अनुभव कहता है संविधान निर्माताओं ने जो व्यवस्था दी वो कितनी उपयुक्त रही है। कितना अच्छा योगदान इसने दिया है। जहां निचला सदन जमीन से जुड़ा है, तो उच्च सदन दूर तक देख सकता है। भारत की विकास यात्रा में निचले सदन से जमीन से जुड़ी चीजों का प्रतिबिंब झलकता है, तो उच्च सदन से दूर दृष्टि का अनुभव होता है। प्रधानमंत्री मोदी ने ऊपरी सदन की प्रशंसा करते हुए सदन की महत्ता पर जोर दिया। अनुच्छेद 370 को हटाने से लेकर तीन तलाक विधेयक के बारे में चर्चा करते हुए मोदी ने रेखांकित किया कि कैसे यह सदन ‘ऐतिहासिक’ है। राज्यसभा की प्रशंसा करते हुए, उन्होंने कहा कि सदन की परिपक्वता ने यह सुनिश्चित किया है कि विरोध के बावजूद तीन तलाक और जीएसटी पर विधेयक पारित हो सके। अनुच्छेद 370 को हटाए जाने की चर्चा करते हुए, मोदी ने कहा, “जब भी राष्ट्र की बात आती है, राज्यसभा इस अवसर पर उठ खड़ा होता है और मजबूत योगदान दर्ज कराता है।”उन्होंने कहा कि जब अनुच्छेद 370 और 35(ए) से संबंधित विधेयक को पारित करवाने की बात आती है, तो हम राज्यसभा की भूमिका को कभी नहीं भूल सकते हैं। विपक्ष पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, “ऐसा माना जा रहा था कि तीन तलाक पर विधेयक यहां पारित नहीं हो सकेगा, लेकिन यह पारित हो गया। भाजपा-नीत राजग के पास ऊपरी सदन में संख्या का अभाव था, फिर भी सदन इसे पारित करवाने में सफल रहा।

क्या बदल सकती है महाराष्ट्र में तस्वीर!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा के 250वें सत्र के अपने संबोधन में सोमवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की तारीफ की, जिससे राज्य में राजनीतिक गतिरोध के बीच कयासों को नई हवा मिल गई है। प्रधानमंत्री ने राकांपा और बीजू जनता दल के सदस्यों के सदन के मध्य न जाने को लेकर प्रशंसा की। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में राकांपा किंगमेकर बनकर उभरी है।

मनमोहन सिंह ने जवाहर लाल नेहरू को किया याद

राज्यसभा के 250वें सत्र के अवसर पर राज्यसभा में आज विशेष चर्चा हुई। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के बाद पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने सभा को संबोधित किया। मौके पर उन्होंने पहले पीएम जवाहर लाल नेहरू को याद किया। मनमोहन ने यह भी कहा कि हमें भीम राव अंबेडकर के आदर्शों का पालन करना चाहिए। बता दें कि मनमोहन सिंह राजस्थान से राज्यसभा सांसद हैं। पीएम ने राज्यसभा की तारीफ करते हुए कहा कि देश को चेक ऐंड बैलेंस सिस्टम देने में राज्यसभा का अहम रोल रहा है। बता दें कि यह सिस्टम संविधान का अहम अंग बताया जाता है। यह तीनों शाखों (कार्यकारी, विधायी और न्यायपालिका) के बीच बैलेंस बनाकर रखता है।

मार्शलों की बदली गई यूनिफार्म

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन राज्यसभा में कार्यरत मार्शलों के यूनिफार्म का रंग बदल दिया गया है। पहले मार्शलों के यूनिफार्म का रंग मटमैला था। अब इनका रंग गहरा नीला कर दिया गया है। पहले चेंबर अटेंडेंट और मार्शलों के यूनिफार्म का रंग एक ही था।

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.