Press "Enter" to skip to content

आयुष मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइन,आयुष-64 दवा खाने से कोरोना दूर रखने में मिलेगी मदद

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने मंगलवार को कोरोना मरीजों की देखभाल के लिए आयुष दवाओं का नया प्रोटोकॉल जारी किया। नए प्रोटोकॉल में उन विशेष दवाओं के नामों की जानकारी भी दी गई है, जिन्हें कोरोना मरीजों को देने से उन्हें लाभ मिलता है। इनमें आयुष-64 को सबसे ज्यादा कारगर बताया गया है। नई गाइडलाइन में पहली बार कोरोना से स्वस्थ हो चुके लोगों के लिए पोस्ट-कोविड प्रोटोकॉल जारी किए गए हैं। ऐसे लोगों के लिए भी आयुष-64 दवा और कुछ दिशानिर्देश दिए गए हैं। वहीं आयुष विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना के सभी मरीजों को एलोपैथी अस्पतालों में भर्ती किया जा रहा है। यहां एलोपैथी के डॉक्टर आयुष दवाओं को मरीजों को देने से परहेज रख रहे हैं। यही कारण है कि अच्छे प्रोटोकॉल तय होने के बाद भी इनका लाभ सभी मरीजों को नहीं मिल पा रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि इनका लाभ सभी मरीजों को मिले, इसके लिए नियमों में कुछ बदलाव करने की आवश्यकता है।

अश्वगंधा और च्यवनप्राश खाएंकोरोना से बचें-आयुष मंत्रालय की तरफ से जारी प्रोटोकॉल के मुताबिक कोरोना संक्रमण की दृष्टि से संवेदनशील एरिया में रहने वाले लोगों को संक्रमण से बचने के लिए रोजाना अश्वगंधा का 1-3 ग्राम पाउडर या 500 एमजी एक्सट्रैक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए। इसके अलावा गर्म पानी या दूध के साथ प्रतिदिन 10 ग्राम च्यवनप्राश का उपयोग करना चाहिए। कोरोना के लक्षणहीन ऐसे मरीजों के लिए आयुष-64 नाम की दवा दिए जाने की सलाह भी दी गई है।

माइल्ड कैटेगरी के मरीजों के लिए-आयुष मंत्रालय ने कहा है कि कोरोना के मध्यम या माइल़्ड कैटेगरी के मरीजों, जिनमें हल्का बुखार, गला खराब होना, पतले दस्त होना या खांसी जैसे हल्के लक्षण दिखाई पड़ रहे हैं, के लिए गुडुची, पीपली के एक्सट्रैक्ट्स दो बार देना चाहिए। इसके अलावा आयुष-64 की दवा के 500 एमजी के दो कैप्सूल 15 दिनों तक दिए जाने चाहिए। मरीजों के लिए विशेष प्रकार के योग की विधियों को भी सुझाया गया है। इनकी अवधि 45 मिनट, 30 मिनट के सेशन के साथ-साथ शाम को 15 मिनट के अलग सेशन रखने का सुझाव दिया गया है। इन योग मुद्राओं में विभिन्न आसन, कपालभाति, प्राणायाम, श्वसन क्रिया और अन्य मुद्राएं शामिल हैं। इसका उपयोग प्रशिक्षित योग शिक्षक की निगरानी में ही करना चाहिए।

पोस्ट कोविड मरीजों की ऐसे करें देखभाल-कोरोना से स्वस्थ हो चुके लोगों में भी कई तरह की समस्याएंं देखने को मिल रही हैं। कोरोना से स्वस्थ होने के बाद भी लोगों में सांस लेने में दिक्कत, कमजोरी, थकावट या चिंता बढ़ने जैसे लक्षण देखने को मिल रहे हैं। इसीलिए आयुष मंत्रालय ने इस बार कोविड से स्वस्थ हो चुके लोगों के लिए भी प्रोटोकॉल निर्धारित किया है। इसके मुताबिक कोविड से स्वस्थ हो चुके लोगों को भी अश्वगंधा का 1-3 ग्राम पाउडर या 500 एमजी एक्सट्रैक्ट दिन में दो बार 15 दिनों तक इस्तेमाल करना चाहिए। इस दौरान प्रतिदिन 10 ग्राम च्यवनप्राश का भी इस्तेमाल किया जाना चाहिए। किसी भी दवा का उपयोग आयुर्वेद के डॉक्टर की देखरेख में ही किया जाना चाहिए। उसकी सलाह के मुताबिक ही दवाओं के उपयोग की समयसीमा कम करना या बढ़ाना चाहिए। लेकिन च्यवनप्राश और योगा जैसी चीजें लगातार जारी रखी जा सकती हैं।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.