Press "Enter" to skip to content

सुश्री अनुसूइया उइके ने बस्तर में रखी केंद्रीय विद्यालय बनाने की मांग:राज्यपालों के उप समूह की बैठक में शामिल हुई छग की राज्यपाल सुश्री अनुसूइया उइके

नई दिल्ली। केंद्रीय जनजाति कार्य मंत्रालय द्वारा राज्यपालों के उप समूह की बैठक का आयोजन नई दिल्ली के प्रवासी भारतीय केंद्र पर किया गया। इस बैठक में छत्तीसगढ़ की राज्यपाल सुश्री अनुसूइया उइके भी शामिल हुईं।

इस बैठक के दौरान कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की गई, जिसमें 5वीं अनुसूची के अंतर्गत आने वाले क्षेत्रों के शासन, जनजातीय सलाहकार परिषद की नियुक्ति, जनजातीयों की सांस्कृतिक विशिष्टता का संरक्षण सहित कई मुद्दे शामिल रहे। राज्यपाल  सुश्री अनुसूइया उइके ने कहा कि संस्कृति और परंपरा का संरक्षण बहुत जरूरी है, इसके लिए लोकनृत्य, लोकगीत, बोली, सामाजिक, सांस्कृतिक मान्यताओं का दस्तावेजीकरण किया जाए। वहीं उन्होंने कैन्सल किए गए वन अधिकार पट्टा की समीक्षा की बात कही। इस दौरान राज्यपाल ने जनजाति किसानों को भी प्रधानमंत्री किसान कल्याण योजना से जोड़ने की मांग रखी। जनजाति क्षेत्रों में विशेष आवासीय स्कूल पर बात करते हुये उन्होंने बस्तर में केंद्रीय विद्यालय के स्थापना की मांग की। इसके अलावा वन भूमि विवादों को हल करना और निर्धारित तिथि के भीतर वनवासियों को भूमि का स्वामित्व प्रदान करना, वनोपज पर जनजातियों के अधिकार, स्थानीय जनजातियों को शामिल करते हुये योजनाओं का विकेन्द्रीकरण आदि विषयों पर राज्यपाल ने कई सुझाव दिये। इस दौरान केंद्रीय जनजाति कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा सहित ओडिशा, मेघालय, त्रिपुरा, झारखंड, असम और मिजोरम के राज्यपाल शामिल रहे।

हथकरघा प्रदर्शनी का अवलोकन

छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके ने शुक्रवार को यहां नई दिल्ली स्थित छत्तीसगढ़ भवन लगी हस्तशिल्प-हथकरघा प्रदर्शनी का अवलोकन किया। प्रदर्शनी में राज्यपाल ने कोसे के परिधान की ख़रीदारी भी की। उन्होंने छत्तीसगढ़ के बुनकरों से मुलाकात कर उनकी कला को सराहा। उल्लेखनीय है कि देश की राजधानी दिल्ली में छत्तीसगढ़ के हस्तशिल्प हथकरघा उत्पादों की काफी मांग है। आगामी त्योहार के सीजन को देखते हुए 7 अक्टूबर 2019 से 14 अक्टूबर 2019 तक प्रदर्शनी लगाई गई है। प्रदर्शनी मेंछत्तीसगढ़ में टेराकोटा, के आईटम्स, क्राफ्ट, कोसे से बने परिधान, ऑर्गेनिक चावल के अनेकों वैराईटी ब्लैक-ब्राउन राईस सहित छत्तीसगढ़ के जंगलों में होने वाले से ढेर सारे उत्पाद प्रदर्शनी में बिक्री हेतु उपलब्ध है।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.