Press "Enter" to skip to content

नाक बंद, जी मिचलाना और दस्त भी कोरोना संक्रमण के लक्षण

नई दिल्ली। कोरोना वायरस दुनियाभर में जैसे-जैसे विस्तार ले रहा है, उसके लक्षण भी नए-नए उभरते जा रहे हैं। अब संयुक्त राष्ट्र सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने कोरोनो वायरस के तीन नए लक्षणों की पहचान की है। नाक बंद होना या बहती नाक, जी मिचलाना (मतली) और दस्त भी कोरोना संक्रमण के लक्षणों में शामिल कर लिया गया है।

अमेरिकी स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी की 12 लक्षणों की सूची में अब तक बुखार या ठंड लगना, खांसी, सांस की तकलीफ या सांस लेने में कठिनाई, थकान, मांसपेशियों या शरीर में दर्द, सिरदर्द, गंध या स्वाद की कमी और गले में खराश जैसे कोरोना के लक्षण बताए गए हैं। एजेंसी ने अपनी वेबसाइट के जरिए कहा है कि इस सूची में सभी संभावित लक्षण शामिल नहीं हैं। सीडीसी इस सूची को तब तक अपडेट करता रहेगा जब तक हम कोरोना के बारे में अधिक नहीं जान जाता है। साथ ही कहा गया है कि जो लोग कोरोना की चपेट में आए हैं, उनमें अलग-अलग लक्षण हो सकते हैं। हेल्थ एजेंसी ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि कोरोना वायरस के संपर्क में आने के बाद लक्षण प्रकट होने में 2-14 दिनों का समय लग सकता है।

शुरुआत में लक्षणों की सूची में बुखार, खांसी और सांस की तकलीफ ही रखा गया था। उसके बाद छह नए लक्षण जोड़े गए- ठंड लगना, मांसपेशियों में दर्द, सिरदर्द, गले में खराश और अप्रैल में स्वाद या गंध महसूस नहीं होने को भी कोरोना वायरस के संक्रमण का लक्षण बताया गया। सांस की तकलीफ को भी बाद में लक्षण में जोडा गया। स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा, किसी में भी हल्के से लेकर गंभीर लक्षण हो सकते हैं। वृद्ध वयस्कों और जिन लोगों में हृदय या फेफड़ों की बीमारी या मधुमेह जैसी गंभीर बीमारी हैं, उनमें कोरोना की जोखिम अधिक है।

इसे भी पढ़ें-कोरोना की जंग में भारत की स्थिति कई अन्य देशों की तुलना में बेहतर: पीएम मोदी

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.