Press "Enter" to skip to content

व्यक्तित्व विकास के लिए साकारात्मक सोच की जरूरत: डॉ. एस.सी. कुलश्रेष्ठ

मुज़फ्फरनगर: श्रीराम कॉलेज के कम्प्यूटर एप्लिकेशन विभाग मे ओरिन्टेशन कार्यक्रम ‘अभिवादन’ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उददेश्य प्रथम वर्ष के नवागान्तुक विद्यार्थियों को महाविद्यालय से परिचय कराना था। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्रीराम ग्रुप ऑफ कॉलिजेज के चेयरमैन डा0 एस0सी0 कुलश्रेष्ठ व विशिष्ठ अतिथि कॉलेज निदेशक डा0 आदित्य गौतम रहे।

कार्यक्रम की शुरूआत संस्था के चैयरमैन डा0 एस0सी0 कुलश्रेष्ठ के द्वारा दीप – प्रज्जवलित करके की गई। संकाय के डीन निशांत राठी ने अतिथियो पुष्प भेंट कर उनका स्वागत किया तथा अतिथियों का परिचय कराया। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य नवागंतुक विद्यार्थियों को महाविद्यालय से परिचय कराने के साथ-साथ व पाठ्यक्रम के सम्बन्ध मे जानकारी देने, कॉलेज की अनुशासन प्रणाली तथा कालेज नियमों से अवगत कराना था।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डा0 एस0सी0 कुलश्रेष्ठ ने विद्यार्थियों का स्वागत करते हुये विद्यार्थियों के साथ अपने अति महत्त्वपूर्ण विचारो को साझा किया।
उन्होने कहा कि व्यक्तित्व विकास के लिए साकारात्मक सोच की जरूरत है। नाकारात्मक सोच मनुष्य के व्यक्तित्व को और अधिक नाकारात्मक कर देती है जिसके कारण व्यक्तित्व का विकास रूक जाता है। उन्होंने बताया कि आंतरिक व्यक्तित्व सुंदर और सुदृढ़ होना जीवन में सफलता प्राप्ति के लिए आवष्यक है। वहीं बाह्य व्यक्तित्व भी उतना ही महत्वपूर्ण एवं सुंदर होना चाहिए जितना की आंतरिक व्यक्तित्व का सुंदर होना है। उन्होंने कहा कि मनुष्य को जीवन में सफलता प्राप्ति के लिए शुद्ध मानसिकता और स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का भाव होना जरूरी है ही साथ ही अथक परिश्रम भी बेहद ज़रूरी है।

उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि जीवन में सफलता प्राप्ति के लिए समय प्रबंधन और जीवन प्रबंधन करना अति आवश्यक है। उन्होंने जीवन तथा समय प्रबंधन के बारे में विद्यार्थियों को बताया कि समय प्रबंधन से ही बड़े से बड़े लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त किया जा सकता है। सिर्फ जीवन में यह जज्बा बनाए रखने की जरूरत है कि असफलताओं से निराष ना हो बल्कि असफलताएं मनुष्य को सफलता के मार्ग तक ले जाने में सहायक होती है। उन्होंने कहा कि मनुष्य रोज सीखता है और यह सीखने की प्रक्रिया जीवन प्रयंत्र जारी रहनी चाहिए। जीवन व समय के प्रबंधन के कारण इंसान अपने लक्ष्यों की प्राप्ति कर सकता है।

कार्यक्रम के अंत में बीसीए के विभागाध्यक्ष निशान्त राठी ने मुख्य अतिथि का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर नीतु सिंह, श्रीकान्त सिंह, अमित कुमार, विकास शर्मा, प्रमोद शर्मा, हिमांशु होरा, प्रवीण कुमार, संजय कान्त त्यागी, श्रीला पारिक, योगेन्द्र कुमार, अनुज कुमार, अंकुर कुमार, विनीत, नवीन कुमार, हंस त्यागी, मनोज पुण्डीर, दिनेश यादव आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

More from खबरMore posts in खबर »
More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.