Press "Enter" to skip to content

अप्रवासी भारतीय ई-बैलेट के जरिए कर सकेंगे मतदान

नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर उस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है जिसमें अप्रवासी भारतीय एनआरआई अपने मतदान क्षेत्र में कहीं से भी मतदान कर सकेंगे। इसके लिए उन्हें इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसमिटेड पोस्टल बैलेट सिस्टम का इस्तेमाल करना होगा। हालांकि विदेश मंत्रालय ने सुझाव दिया है कि इस व्यवस्था को शुरू करने से पहले सभी हितधारकों से परामर्श जरूर लें। एक रिपोर्ट के मुताबिक चुनाव आयोग ने 27 नवंबर को कानून सचिव को एक पत्र लिखा था, जिसमें कहा गया था कि अप्रवासी भारतीय को पोस्टल बैलेट के जरिए मतदान करने में सक्षम बनाने के लिए चुनाव नियमों में संशोधन किए जाने चाहिए। पत्र में आगे कहा गया कि वह अप्रैल-मई में असम, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी के चुनावों में इस सुविधा का विस्तार करने के लिए तकनीकी और प्रशासनिक रूप से तैयार है।

1.17 लाख अप्रवासी भारतीय हैं पंजीकृत-मतदाता सूची में करीब 1 लाख 17 हजार अप्रवासी भारतीय पंजीकृत हैं। चुनाव आयोग ने अपने पत्र में कहा कि उसे भारतीय मतदाताओं से डाक मतपत्रों के माध्यम से मतदान की सुविधा प्राप्त करने के लिए कई प्रतिनिधित्व प्राप्त हो रहे हैं क्योंकि ऐसे अप्रवासी मतदाता अपने मतदान क्षेत्र में उपस्थित होने की स्थिति में नहीं थे। पत्र में इसके पीछे की वजह भी बताई गई। पत्र में कहा गया कि अप्रवासी भारतीयों के लिए भारत की यात्रा करना एक महंगा मामला है और वे रोजगार, शिक्षा या फिर अन्य व्यस्तताओं जैसी मजबूरियों के कारण अपने मतदान क्षेत्र में मौजूद नहीं थे। इसके अतिरिक्त कोरोना महामारी की वजह से लागू सुरक्षा प्रोटोकॉल को भी अहम वजह बताया जा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक एनआरआई को ई-बैलेट जारी करने की अनुमति तभी प्रदान की जाएगी, जब वह रिटर्निंग ऑफिसर के समक्ष फॉर्म-12 के माध्यम से मतदान करने की इच्छा जाहिर करता है। जिसे चुनाव की अधिसूचना के कम से कम पांच दिन के भीतर किया जाना चाहिए। चुनाव आयोग के प्रस्ताव के मुताबिक पोस्टल बैलेट सही तरीके से भरा जाना चाहिए और वह सत्यापित होना चाहिए। इसके अतिरिक्त उसे भरकर सही समय में भेजा गया हो ताकि मतगणना वाले दिन सुबह 8 बजे तक पहुंच सके।

More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.