Press "Enter" to skip to content

धर्मगुरूओं एवं प्रभावशालियों व्यक्तियों के साथ एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

मेरठ: गढ़ रोड स्थित होटल ब्रॉडवे मेरठ के मीटिंग हॉल मे पोलियों उन्मूलन कार्यक्रम से जुड़े धर्म गुरूओं व प्रभावशाली व्यक्तियों द्वारा किये गए काम को सराहने के लिए अंतराष्ट्रीय संस्था कोर पी.सी.आई. सार्ड द्वारा एक जिला स्तरीय सहयोगी सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें मेरठ शहर के विभिन्न क्षेत्रो से आये हुए धर्म गुरूओं ने पोलियों समेत दस जानलेवा बीमारियों से बचाव के लिए हर प्रकार के सरकार द्वारा चलाई जा रही समयानुसार टीकाकरण एवं अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं को जायज ठहराया।

बैठक में जिला मोबिलाइजेशन कोर्डिनेटर प्रवीण कौशिक ने सभी जगहों से आये हुए धर्मगुरूओं, प्रभावशाली सहित सीडीओ ईशा दुहन, मुख्यचिकित्साधिकारी डॉ राजकुमार, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ प्रवीण गौतम, अपरमुख्यचिकित्साधिकारी डॉ पूजा शर्मा, जिला कुष्ठ रोग अधिकारी डॉ विश्वास चौधरी, नायब शहर काजी साहब, आस मौ.गुलजार कासमी, जीएममुस्तफा, मुफ्ती शहजाद एवं कार्यक्रम से जुड़ी सहयोगी संस्थाओं से आये हुए प्रतिनिधियों का स्वागत किया। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 12 जनपदों में कोर पोलियो परियोजना के तहत लगभग 1300 सी.एम.सी समुदाय स्तर पर सोशल मोबिलाइजेशन की गतिविधियों के द्वारा पोलियों, समयानुसार टीकाकरण, पोषण एवं साफ-सफाई आदि विषयों पर समुदाय में जागरूकता फैला रही हैं ताकि समुदाय इसका पूर्ण लाभ उठा सकें। समय पर टीकाकरण से गर्भवती महिलाओं के साथ साथ बच्चों को पोलियो, काली खाँसी, गलघोंटू, टीबी, हिब, हैप-बी, दस्त, खसरा, जर्मन खसरा जैसी जानलेवा बिमारियों से बचाया जा सकता है।

कार्यशाला के आरम्भ में डॉ विश्वास चौधरी ने पोलियो की वैश्विक जानकारी सहित देेश एवं प्रदेश में पोलियों की ताजा स्थिति पर जानकारी को साझा किया। विश्व में आज पोलियो के कुल 73 मामले पाये गये हैं। जिनमें से 15 मामले अफगानिस्तान में तथा 58 मामले पाकिस्तान में पाये गये है। इसीलिए हमें और भी सचेत रहने की आवश्यकता है। पोलियो केे साथ सरकार दस अन्य जानलेवा बीमारियों से बच्चों को बचाने के लिए कार्य कर रही है। वही अपर मुख्यचिकित्साधिकारी डॉ पूजा शर्मा ने कहा कि पल्स पोलियों कार्यक्रम को सफल बनाने में धर्मगुरूओ एवं प्रभावशाली व्यक्तियों का महत्वपूर्ण योगदान हैं, इसके साथ ही नियमित टीकाकरण एवं सरकार के द्धारा चलाये जा रहे अन्य कार्यक्रमों में भी महत्वपूर्ण योगदान की आवश्यकता है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ प्रवीण गौतम ने राष्ट्रीय नियमित टीकाकरण कार्यक्रम मे जुडी नई वैक्सीनों के विषय में प्रतिभागियों को अवगत कराया। सरकार के द्वारा दस्त से बचाव के लिए रोटा वाइरस वैक्सीन एवं खसरा रूबैला से बचाव के लिए नई वैक्सीन लाई जा रही है ताकि बच्चों को इन सहित दस जानलेवा बीमारियों से बचाया जा सके। खसरा रूबैला के लिए एक अभियान चलाया नवम्बर माह में प्रस्तावित है जिसके लिए जिला स्तर पर तैयारियां की जा चुकी है। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ राजकुमार द्वारा बैठक में आये धर्मगुरूओं एवं अन्य प्रभावशाली व्यक्तियों से अपील की कि पल्स पोलियो एवं नियमित टीकाकरण कार्यक्रम, सरकार का एक महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है।अब इसमें दस्त के साथ खसरा रूबैला से बचाव का टीका भी जोडा जा चुका है। अभियान को सफल बनाने में सभी विभागों के साथ-साथ समुदाय का मार्गदर्शन करने वाले धर्मगुरूओं व प्रभावशाली व्यक्तियों के सहयोग की आवश्यकता है।

बैठक के अन्त में सी.डी.ओ. मैडम ने बताया कि हमें समयानुसार टीकाकरण एवं खसरा रूबैला अभियान में सहयोग कर शत-प्रतिशत बच्चों का टीकाकरण कराकर अपने क्षेत्र, जिले में जानलेवा बीमारियों से रोकथाम कर सकते हैं। जिन बीमारियों से बचाव के लिए टीकाकरण कराया जा रहा है उन बीमारियों का कोई ईलाज नहीं है, केवल टीकों के द्वारा ही बचाव किया जा सकता है। अत: आप सभी से यह अपील है कि आगामी पोलियो एवं खसरा रूबैला अभियानों को सफल बनाने में अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करें।

इस अवसर पर पोलियों एवं टीकाकरण में सहयोग करने वाले धर्मगुरूओं, प्रभावशाली व्यक्तियों, जिला विकास अधिकरी, मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला प्रतिरक्षण अधिकरी द्वारा स्मुति चिन्ह देकर उनके योगदान को सराहा गया। इस अवसर पर कोर पी.सी.आईसार्ड के एम.आई.एस. सन्दीप सिंह एवं ब्लॉक कोर्डिनेटर निगहत सुल्तान, राजीव खोखर, शबाना, राहुल गौतम, साधना, परविन्द, नीतू एवं यू.एन.डी.पी. के प्रतिनिधि ने बैठक को सफल बनाने में महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान किया।

More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.