Press "Enter" to skip to content

सिग्नीफिकेन्स ऑफ़ थ्योरीटीकल स्टेन्ड इन आर्किटेक्चर विषय पर पैनल डिस्कशन का आयोजन

मुज़फ्फरनगर- श्रीराम स्कूल ऑफ़ आर्किटेक्चर में चल रहे नासा (नेशनल ऐसोसिऐशन स्टूडेन्ट ऑफ़ आर्किटेक्चर) के दो दिवसीय आर्किटेक्चर के काउंसिल मीट के दूसरे एवं अंतिम दिन सिग्नीफिकेन्स ऑफ़ थ्योरीटीकल स्टेन्ड इन आर्किटेक्चर विषय पर पैनल डिस्कशन का आयोजन किया गया। जिसके मुख्य वक्ता आई0ई0टी, रोपड (पंजाब) के सह प्राध्यापक आर्किटेक्ट एवं नासा के पूर्व उपाध्यक्ष गुरूप्रीत सिंह रहे।

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता गुरूप्रीत सिंह ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि आज वर्तमान के इस प्रतिस्पर्धा युग में अधिकतर आर्चीटेक्ट्स आर्किटेक्चर की बेसिक थ्योरी पर ध्यान न देते हुए कमर्शियल प्रैक्टिस की तरफ अग्रसर हो रहे हैं। उन्होंने अलग-अलग क्षेत्रों की भौगोलिक स्थिति एवं जलवायु की वास्तुकला मे भूमिका को विस्तार से बताते हुए क्षेत्रीय निर्माण तकनीक एवं उपलब्ध सामग्री की उपयोगिता एवं गुणों पर प्रकाश डाला। साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों की जिज्ञासाओं को अपने ज्ञान से संतुष्ट किया। कार्यक्रम के अंतिम सत्र में विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन करते हुए श्रीराम ग्रुप ऑफ़ काॅलेजेज़ के चेयरमैन डा0 एस0सी0 कुलश्रेष्ठ ने नासा द्वारा आयोजित राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम की सफलता का श्रेय आर्किटेक्चर के विद्यार्थियों एवं प्रवक्ताओं को देते हुए कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम आर्किटेक्चर एजुकेशन को नए एवं ऊंचे आयाम देने के लिए बेहतर माध्यम है। जिसके द्वारा विद्यार्थियों के बेहतर एवं सशक्त भविष्य की परिकल्पना का निर्माण होता है। साथ ही इस प्रकार के कार्यक्रमों में पूर्ण रूप से विद्यार्थियों की भूमिका उनमें नेतृत्व क्षमता का विकास तो करती ही है साथ ही नए-नए विचार जानने एवं सांझा करने से भी तकनीकी एवं रचनात्मक शैली का विकास होता है जो कि इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण है।

कार्यक्रम के अंत में श्रीराम इंजीनियरिंग काॅलेज के निदेशक डा0 डी0के0पी सिंह ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कार्यक्रम में शिरकत करने आए अलग-अलग राज्यों के विद्यार्थियों एवं अतिथियों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए गर्व का विषय रहा कि श्रीराम ग्रुप ऑफ़ काॅलेजेज़ में नासा जैसी राष्ट्रीय स्तर की संस्था का सफल कार्यक्रम आयोजित हुआ। उन्होंने कहा कि श्रीराम स्कूल ऑफ़ आर्किटेक्चर प्रदेश स्तर पर ही नहीं राष्ट्रीय स्तर पर भी सर्वश्रेष्ठ आर्किटेक्चर काॅलेजों में शुमार हो चुका है। उन्होंने भविष्य में भी इस प्रकार के सफल आयोजन को कराने के लिए प्रतिबद्धता जाहिर की एवं कार्यक्रम को सफल बनाने में काॅलेज प्रबंधन एवं काॅलेज चेयरमैन डा0 एस0सी0 कुलश्रेष्ठ के निर्देशन एवं मार्गदर्शन के लिए भी धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम के अंत में प्रतिभाग करने वाले विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र भी प्रदान किए गए। कार्यक्रम को मुख्य रूप से सफल बनाने में आर्किटेक्ट विनय सिंह, अश्वनी कल्याणी, विभोर, अली आलम और रोहित कुमार आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

More from खबरMore posts in खबर »
More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.