Press "Enter" to skip to content

श्रीराम कॉलेज में “टैलेंट सर्च एक्सपीडिशन 2019” प्रतियोगिता का आयोजन

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

मुज़फ्फरनगर- श्रीराम ग्रुप ऑफ काॅलेजेज़ में श्रीराम चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी ’’टैलेंट सर्च एक्सपीडिशन 2019’’ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें शामली, देवबंद, मीरापुर, जानसठ, खतौली, पुरकाजी एवं मुज़फ्फरनगर जिले से कक्षा 10वीं, 12वीं, एवं स्नातक स्तर की तकरीबन 1200 बालिकाओं ने इस प्रतियोगिता में पंजीयन कराकर प्रतिभाग किया। जिसमें से तकरीबन 559 बालिकाओं ने स्नातक कोर्स, 399 बालिकाओं ने स्नातकोत्तर कोर्स तथा 242 बालिकाओं ने पाॅलिटेक्निक कोर्स के लिए प्रतिभाग किया।

टेलेंट सर्च एक्सपीडिशन 2019 का आयोजन श्रीराम इंजीनियरिंग काॅलेज कैंपस में किया गया। जिसका उद्देश्य समाज में प्रतिभाशाली बालिकाओं को उच्च शिक्षा हेतु प्रोत्साहित करना एवं उच्च शिक्षा के लिए समाज की आर्थिक रूप से कमज़ोर बालिकाओं को आर्थिक सहायता एवं उच्च शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र निर्माण में योगदान देना है। प्रतियोगिता में बालिकाओं से एप्अीट्यूड, सामान्य ज्ञान, रिज़निंग, एवं करंट अफेयर्स आदि विषयों पर आधारित वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे गए।

इस अवसर पर श्रीराम ग्रुप ऑफ काॅलेजेज़ के चेयरमैन डा0 एस0सी कुलश्रेष्ठ ने संदेश देते हुए कहा कि वर्तमान समय में बालिकाओं का शिक्षित होना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि एक शिक्षित लड़की आने वाली कई पीढ़ियों को शिक्षित बनाती है, ऐसे में यह हमारा नैतिक कर्तव्य बनता कि व्यक्तिगत रूप से बालिकाओं की शिक्षा के लिए कठोर प्रयास किए जाएं तभी सरकार द्वारा चलाई जा रही “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ“ योजना को बल मिलेगा। इस प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य यही है कि बालिकाएं भी उच्च शिक्षा प्राप्त कर अपना भविष्य संवार सकें। इस प्रतियोगिता के माध्यम से बालिकाओं को पुरस्कार स्वरूप श्रीराम चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा एक करोड़ से अधिक की स्काॅलरशिप प्रदान की जाएगी।

श्रीराम चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा दी जाने वाली छात्रवृत्ति का प्रावधान इस प्रकार होगा कि श्रीराम ग्रुप ऑफ काॅलेजेज़ में चल रहे विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु प्रतियोगिता में प्रथम 5-10 स्थानों पर आने वाली बालिकाओं की पूरे पाठ्यक्रम हेतु शिक्षा निशुल्क होगी, अगले 15 स्थानों पर आने वाली बालिकाओं को अर्द्धशुल्क मुक्ति होगी, जबकि अगले 25 स्थानों पर रहने वाली बालिकाओं के लिए 25 प्रतिशत शिक्षण शुल्क से मुक्ति होगी। इस प्रतियोगिता के माध्यम से ऐसी बालिकाओं को भी आर्थिक रूप से सहयोग प्राप्त हो जाएगा, जो पढ़ना तो चाहती है, परंतु आर्थिक स्थिति कमज़ोर होने के कारण व्यवसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश नहीं ले पाती।

कार्यक्रम को सफल बनाने में श्रीराम इंजीनियरिंग काॅलेज के निदेषक डा0 डी0के0पी सिंह, मैकेनिकल इंजीनियरिंग काॅलेज के विभागाध्यक्ष आलोक गुप्ता, एप्लाइड साइंस के विभागाध्यक्ष डा0 मोहित शर्मा, रूचि राॅय, पियूष चैहान और आदित्य सैनी आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Be First to Comment

    प्रातिक्रिया दे

    आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

    Mission News Theme by Compete Themes.