Press "Enter" to skip to content

सुषमा स्वराज की पहली पुण्यतिथि पर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता रहीं सुषमा स्वराज को उनकी पहली पुण्यतिथि पर याद करते हुए कहा कि उन्होंने नि:स्वार्थ भाव से भारत की सेवा की और वैश्विक मंच पर वह देश की मुखर आवाज थीं। पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का पिछले साल 67 वर्ष की आयु में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। अपने निधन के चंद घंटे पहले सुषमा स्वराज ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 निरस्त किए जाने के लिए ट्वीट कर मोदी सरकार की सराहना की थी। अनुच्छेद 370 की वजह से जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा मिला हुआ था। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि पहली पुण्यतिथि पर आज सुषमाजी की याद आ रही है। उनके असामयिक और दुर्भाग्यपूर्ण निधन ने बहुत लोगों को दुखी कर दिया। उन्हें याद करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सुषमा स्वराज ने नि: स्वार्थ भाव से देश की सेवा की और वैश्विक मंच पर वह भारत की मुखर आवाज थीं। मोदी ने इस अवसर पर पिछले साल सुषमा स्वराज के निधन पर आयोजित एक प्रार्थना सभा में दिए गए अपने संबोधन का वीडियो भी साझा किया। विदेशों में रहने वाले भारतीय नागरिकों की समस्याओं के समाधान के लिए सुषमा स्वराज की त्वरित प्रतिक्रिया का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा था कि उन्होंने विदेश मंत्रालय को बदल कर रख दिया। उन्होंने कहा था कि मंत्रालय पहले प्रोटोकाल से बंधा होता था लेकिन सुषमा स्वराज ने उसे लोकोन्मुखी बना दिया।

राजनीति नेताओं ने भी किया सुषमा स्वराज को याद-पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पहली पुण्यतिथि पर बृहस्पतिवार को वरिष्ठ नेताओं व कई केंद्रीय मंत्रियों ने उन्हें प्रखर वक्ता और करूणामयी इंसान के रूप में तथा भारतीय कूटनीति में उनके अपूर्व योगदान को याद किया और अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने ट्वीट कर कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री, सरलता व सौम्यता की प्रतिमूर्ति, मृदुभाषी एवं प्रखर वक्ता, पद्म विभूषण श्रीमती सुषमा स्वराज जी की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन।’सुषमा स्वराज को जन-जन की नेता बताते हुए नड्डा ने कहा कि उन्होंने सदैव जनसेवा को ही प्राथमिकता दी। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने उन्हें अपनी ‘प्रेरणा’ बताया और कहा ‘‘आज, पहले से कहीं ज्यादा उनकी याद आती है। सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज ने ट्वीट किया कि माँ तुम हमेशा मेरे साथ मेरी शक्ति के रूप में हो। हे कृष्ण मेरी माँ का ख्याल रखना। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि भारतीय राजनीति में उनकी पहचान सर्वप्रिय-सर्वमान्य नेता की रही। उनका सोशल-कनेक्ट अद्भुत था। उनका जीवन, कर्म व विचार हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे। उन्होंने ट्वीट किया कि सुषमाजी की नेतृत्व क्षमता, सूझबूझ तथा वाकपटुता प्रभावित करती थी। संसद में उनका सम्बोधन संसदीय मर्यादाओं व परंपराओं की मिसाल पेश करता था। सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट किया कि देश की पूर्व विदेश मंत्री व एक ओजस्वी वक्ता आदरणीया सुषमा स्वराज जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि। केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने उन्हें सबसे ऊंचे कद की भारतीय महिला नेताओं में से एक बताया और कहा कि देश के लिए उनका योगदान हमेशा याद किया जाएगा।उन्होंने कहा कि वह लोगों के बीच घुल मिल जाती थीं। उन्होंने अपना पूरा जीवन जन सेवा में खपा दिया। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सुष्मा स्वराज को एक ओजस्वी वक्ता, दूरदर्शी नेता और इन सबसे अधिक एक करूणामयी इंसान के रूप में याद किया जाएगा। केंद्रीय मंत्री जनरल वी के सिंह ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उन्होंने भारतीय राजनीति पर एक अमिट छाप छोड़ी है और उनके हर योगदान के लिए हम उनके आभारी हैं।उल्लेखनीय है कि सुषमा स्वराज हरियाणा सरकार में सबसे युवा मंत्री बनीं। वह दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री और भाजपा की पहली महिला प्रवक्ता थी। साल 1996 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्री थी। साल 1998 में जब भाजपा फिर सत्ता में आई तो वह केबिनेट मंत्री बनीं। वह सात बार संसद की सदस्य और तीन बार विधानसभा की सदस्य रहीं। साल 2009 से 2014 तक लोकसभा में विपक्ष के नेता के रूप में उन्होंने प्रभावी भूमिका निभाई।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.