Press "Enter" to skip to content

प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन में बोले पीएम मोदी,आतंकवाद का सामना करने के लिए भारत ने दी दुनिया को हिम्मत

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन (2021) को संबोधित करते हुए कहा कि बीता साल हम सभी के लिए बहुत चुनौतियों का साल रहा है। इन चुनौतियों के बीच विश्वभर में फैले भारतीय मूल के साथियों ने जिस तरह काम किया है, अपना फर्ज निभाया है वो हम सभी के लिए गर्व की बात है। यही तो हमारी मिट्टी के संस्कार हैं। प्रवासी भारतीय दिवस के 16वें सम्मेलन में शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आप सभी साथियों को हर साल प्रवासी भारतीय सम्मान देने की परंपरा है। अटल बिहारी वाजपेयी जी के मार्गदर्शन में जो यात्रा शुरू हुई उसमें अभी तक 60 अलग-अलग देशों में रहे करीब 240 लोगों को ये सम्मान दिया गया है, इस बार भी इसकी घोषणा की जाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि जब भारत आतंकवाद के सामने खड़ा हुआ, तो दुनिया को भी इस चुनौती का सामना करने की हिम्मत मिली। आज भारत भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रहा है। लाखों और करोड़ों की धनराशि सीधे लाभार्थी के खाते में जमा की जा रही है। उन्होंने कहा कि देश के गरीबों को सशक्त बनाने के लिए भारत में चल रहे अभियान की दुनिया भर में चर्चा हो रही है। हमने दिखाया है कि अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में, एक विकासशील देश भी नेतृत्व कर सकता है। उन्होंने कहा कि दुनियाभर से हजारों साथियों ने भारत को जानिए क्विज कॉम्पीटिशन में हिस्सा लिया है। ये संख्या बताती है कि जड़ से भले दूर हो जाएं, लेकिन नई पीढ़ी का जुड़ाव उतना ही बढ़ रहा है। इस क्विज के 15 विजेता भी आज इस वर्चुअल समारोह से जुड़े हुए है। मैं सभी विजेता को बधाई देता हूं। प्रवासी भारतीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत बाहर से पीपीई किट, मास्क, वेंटिलेटर और परीक्षण किट आयात करता था, लेकिन आज हमारा राष्ट्र आत्मनिर्भर है। आज भारत दो ‘मेड इन इंडिया’ कोविड-19 टीकों के साथ मानवता को बचाने के लिए तैयार है।

भारत का लोकतंत्र एक उदाहरण-प्रवासी भारतीय सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने प्रवासी भारतीयों से कहा कि आज भारत का लोकतंत्र सबसे सफल, सबसे जीवंत है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज भारत का लोकतंत्र दुनिया के लिए एक उदाहरण बन गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आतंकवाद के मोर्चे पर भारत ने दृढ़ता से काम किया है। दुनियाभर में भारतीय समुदाय के साथ बेहतर कनेक्टिविटी के लिए रिश्ता नाम का नया पोर्टल शुरु किया गया है। इस पोर्टल से मुश्किल समय में अपने समुदाय से संपर्क करना, उन तक पहुंचना आसान होगा। महामारी के कारण विदेशों में भारतीयों के रोजगार सुरक्षित रहें इसके लिए डिप्लोमेटिक स्तर पर हर संभव कोशिश की गई।

भ्रष्टाचार खत्म करने के तकनीक का इस्तेमाल-भारत आज भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए तकनीक का ज्यादा से ज्यादा उपयोग कर रहा है। करोड़ों रुपये जो पहले तमाम कमियों के वजह से गलत हाथों पर जाते थे, वो आज सीधे लाभार्थी के बैंक खातों में पहुंच रहे हैं। भारत ने जो नई व्यवस्थाएं विकसित की हैं उनकी वैश्विक संस्थाओं ने प्रशंसा की है। आधुनिक टेक्नोलॉजी ने गरीब से गरीब को मजबूत करने का जो अभियान आज भारत में चल रहा है उसकी चर्चा विश्व के हर कोने में है, हर स्तर पर है।

प्रवासी भारतीय डॉक्टर और नागरिकों ने दी सेवा-इसी के आगे प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मेरी बीते महीनों में दुनिया के अनेक हेड ऑफ द स्टेट से चर्चा हुई है। स्टेट हेड्स ने इस बात का विशेष तौर पर जिक्र किया कि कैसे उनके देश में प्रवासी भारतीय डॉक्टर, पैरामेडिक और सामान्य भारतीय नागरिकों द्वारा सेवा हुई है।(फोटो साभार-दैनिक भास्कर)

More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.