Press "Enter" to skip to content

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना पखवाड़ा शुरू, आशा और एएनएम घर जाकर तलाश रहीं लाभार्थी

नोएडा। केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की सौ फीसदी कवरेज के लिए चलाए जा रहे पखवाड़े में आशा कार्यकर्ता और एएनएम लाभार्थी महिलाओं का पंजीकरण करने में जुटी हैं। गौतमबुद्ध नगर में 19241 लक्ष्य के सापेक्ष 11265 महिलाओं का पंजीकरण किया जा चुका है। इस योजना के तहत मोबाइल वैन द्वारा प्रचार करके, पोस्टर और पम्पफ्लेट्स बांट कर शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में जागरूकता फैलायी जा रही है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अनुराग भार्गव ने कहा हमारी कोशिश है कि सभी पात्र माताओं तक इसका लाभ पहुंचे, इसके लिए विभाग द्वारा पूरा प्रयास किया जा रहा है। इसी कारण यह भी कहा गया है कि अब बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र तभी बनेगा जब महिला द्वारा प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में पहली और दूसरी किस्तों का लाभ ले लिया गया हो।

जिला प्रोग्राम मैनेजर मंजीत कुमार ने बताया कि जिले को 19241 महिलाओं के पंजीकरण का लक्ष्य मिला है। योजना में अब तक 11265 महिलाओं का पंजीकरण किया जा चुका है। शेष के लिए प्रयास जारी हैं। इसके लिए मोबाइल वैन द्वारा प्रचार कर लोगों को जागरूक किया जा रहा है। इस योजना में पंजीकरण के लिए जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र कार्यालय, आशा, आंगनबाड़ी, निकटतम निजी अस्पताल में सम्पर्क किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि अब तक लाभार्थियों को लगभग 3.63 करोड़ रूपये दिये जा चुके है। यह राशि डीबीटी के माध्यम से दी गयी है।

उन्होंने बताया कि प्रधान मंत्री मातृ वंदना योजना के तहत 5 हजार रूपये की धनराशि प्रथम बार गर्भवती हुई महिला को दी जा रही है। पंजीकरण कराने के साथ ही गर्भवती को प्रथम किश्त के रूप में एक हजार रूपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जाँच होने पर (गर्भावस्था के छह माह बाद) दूसरी किश्त के रूप में दो हजार रूपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर तीसरी किश्त के रूप में दो हजार रूपये दिए जाते हैं। ये सारे भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किये जाते हैं, जिसका आधार से लिंक होना जरूरी है। इस योजना का लाभ सभी सही पात्र लोगों को मिल सके इसके लिए ऑनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था की गई है। यह सुविधा अमीर गरीब व किसी भी जाति बंधन से मुक्त है। केवल महिला सरकारी कर्मचारियों को इस सुविधा का लाभ नहीं दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह योजना पूर्णत: निशुल्क है, इसमें किसी भी तरह का शुल्क नहीं है।

उन्होंने कहा कि धन व जागरूकता के अभाव में अधिकांश गर्भवती महिलाएं बेहतर पोषण से वंचित रह जाती हैं। ऐसे लोगों के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की शुरुआत 1 जनवरी, 2017 को की गई थी। योजना की तिथि के बाद पहले बच्चे को जन्म देने वाली माताओं को योजना का लाभ दिया जाता है। इस योजना के तहत सभी आय वर्ग की महिलाओं को शामिल किया गया है। इससे महिलाओं को समय पर उचित पोषण तो मिलेगा ही साथ ही कुपोषण के कारण शिशु मृत्यु दर में भी कमी आएगी। 20 जून से शुरू हुआ प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना पखवाड़ा 5 जुलाई तक चलेगा।

 

More from उत्तर प्रदेशMore posts in उत्तर प्रदेश »
More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *