Press "Enter" to skip to content

राष्ट्रपति कोविंद ने पूरा किया 3 साल का कार्यकाल, कोरोना के खिलाफ जंग में निभाई अहम भूमिका

नई दिल्ली। राष्ट्रपति के तौर पर रामनाथ कोविंद ने शनिवार को तीन साल का कार्यकाल पूरा कर लिया। राष्ट्रपति भवन की तरफ से इस अवसर पर कहा गया कि उन्होंने कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में देश का मार्गदर्शन किया और इस वर्ष सैनिकों, वैज्ञानिकों सहित करीब 7000 लोगों से मुलाकात की।

राष्ट्रपति भवन से मिली जानकारी के अनुसार राष्ट्रपति कोविंद, प्रथम महिला और उनके परिवार के सदस्यों ने सभी नागरिकों के साथ उन सभी लोगों के प्रति आभार प्रकट किया जो अपने और परिवार पर गंभीर खतरे की परवाह नहीं करते हुए देश के लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा में लगे हुए हैं। राष्ट्रपति कोविंद ने ‘पीएम केयर्स’ कोष में एक महीने का वेतन दिया और और एक वर्ष के लिये अपना 30 प्रतिशत वेतन छोड़ने का निर्णय किया। राष्ट्रपति भवन ने उनके राष्ट्रपति रहने के तीसरे वर्ष में हुए विभिन्न कार्यों एवं पहल का उल्लेख भी किया।

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए किए प्रयास

इस दौरान राष्ट्रपति ने खर्च को व्यवहारिक बनाया ताकि संसाधनों का अधिकतम उपयोग किया जा सके। उन्होंने उपराष्ट्रपति के साथ कोविड-19 के प्रबंधन और उसे रोकने के लिये केंद्र और राज्य स्तर पर किये जा रहे प्रयासों को गति देने के लिये सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के राज्यपालों एवं उपराज्यपालों के साथ दो बार वीडियो कांफ्रेंस पर चर्चा की। राष्ट्रपति भवन में और विभिन्न राज्यों की यात्रा के दौरान 6991 लोगों ने राष्ट्रपति से मुलाकात की। औसतन प्रतिदिन राष्ट्रपति से 20 लोगों ने मुलाकात की जिसमें सैनिकों से लेकर वैज्ञानिक और किसानों से लेकर अग्निशमन कर्मी शामिल है।

राष्ट्रपति ने अब तक इतने काम किए

राष्ट्रपति सचिवालय के अनुसार राष्ट्रपति ने केंद्र सरकार के 48 विधेयकों और राज्य सरकार के 22 विधेयकों को अपनी मंजूरी दी, साथ ही 13 अध्यादेश जारी किये एवं 11 राज्यपालों, भारत के प्रधान न्यायाधीश, मुख्य सूचना अधिकारी तथा केंद्रीय सतर्कता आयुक्त की नियुक्ति की। इसमें कहा गया है कि राष्ट्रपति ने अपने कार्यकाल के तीसरे वर्ष में 19 राज्यों एवं चार केंद्र शासित प्रदेशों का दौरा किया । इसमें राष्ट्रपति भवन में पहुंच और सुलभ बनाने को रेखांकित करते हुए कहा गया है कि 25 जुलाई 2019 के बाद से 1,22,292 लोगों ने यहां की यात्रा की। कोविंद ने चिनार कोर के शहीदों को श्रीनगर के युद्ध स्मारक पर श्रद्धांजलि दी और थल सेना, नौसेना और वायु सेना दिवस में हिस्सा लिया । राष्ट्रपति ने ओडिशा के गोपालपुर में कोर ऑफ आर्मी एयर डिफेंस, महाराष्ट्र के नाशिक में आर्मी एविएशन कोर तथा केरल के इझिमला में भारतीय नौसैनिक अकादमी को ध्वज प्रदान किया।

इसे भी पढ़ें–राष्ट्रपति ने वीडियो कांफ्रेंस से विदेशी राजदूतों के परिचय पत्र स्वीकार किये

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.