Press "Enter" to skip to content

राष्ट्रपति कोविंद, पीएम मोदी ने महात्मा गांधी तथा लाल बहादुर शास्त्री को अर्पित की श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती पर शुक्रवार को यहां राजघाट पर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की। कोविंद और मोदी ने विजय घाट पर पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को भी उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उनके जन्मदिवस पर उन्हें नमन किया है और देशवासियं को उनके सत्य और अहिंसा के पग पर चलने का दोबारा संकल्प लेने को कहा है। इस दौरान यहां पर जयंती के अवसर पर भजन का भी आयोजन किया गया। राष्ट्रपति ने लिखा कि गांधी जयंती के दिन, कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धा-सुमन अर्पित करता हूं। सत्य, अहिंसा और प्रेम का उनका संदेश समाज में समरसता और सौहार्द का संचार करके समस्त विश्व के कल्याण का मार्ग प्रशस्त करता है। वे संपूर्ण मानवता के प्रेरणा-स्रोत बने हुए हैं। देशवासियों को राष्ट्रपिता के सत्य और अहिंसा के पग पर चलने का संकल्प दिलाते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि आइए, गांधी जयंती के पुनीत अवसर पर हम सब पुन: यह संकल्प लें कि हम सत्य और अहिंसा के मार्ग का अनुसरण करते हुए, राष्ट्र के कल्याण और प्रगति के लिए सदैव समर्पित रहेंगे और एक स्वच्छ, समृद्ध, सशक्त व समावेशी भारत का निर्माण करके गांधी जी के सपनों को साकार करेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिखा कि हम गांधी जयंती के मौके पर प्यारे बापू को नमन करते हैं। उनके जीवन और महान विचारों से सीखने के लिए बहुत कुछ है। बापू के आदर्श समृद्ध और करुण भारत बनाने में हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बापू को नमन करते हुए कहा कि गांधी जी के असाधारण व्यक्तित्व व साधनापूर्ण जीवन ने विश्व को शांति, अहिंसा और सद्भाव का मार्ग दिखाया। स्वदेशी के उपयोग को बढ़ाने के उनके स्वप्न को पूर्ण करने के लिए आज पूरा देश मोदी जी के आत्मनिर्भर भारत के संकल्प के साथ स्वदेशी को अपना रहा है। गांधी जयंती पर उन्हें कोटिशः नमन। देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बापू की जयंती पर कहा कि महात्मा गांधी का जीवन एवं दर्शन समस्त भारतवासियों के लिए प्रेरणा है। भारत की स्वतंत्रता के लिए आंदोलन करने के साथ-साथ उन्होंने हमें सत्य, अहिंसा, स्वराज और स्वच्छता के विषय में भी नई दृष्टि और दर्शन के बारे में भी जाग्रत किया है। पूज्य बापू की जयंती पर मैं उन्हें नमन करता हूं। राष्ट्रपति कोविंद के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विजय घाट पर शास्त्री के स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की। राजघाट में कई गणमान्य हस्तियों ने गांधी के स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की और इस दौरान सर्वधर्म प्रार्थना की गई तथा राष्ट्रपिता के प्रिय भजन ‘वैष्णव जन तो’ और ‘रघुपति राघव राजा राम’ गाए गए। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और गजेंद्र सिंह शेखावत तथा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद समेत कई गणमान्य हस्तियों ने राजघाट में राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि दी।

लाल बहादुर शास्त्री की 116वीं जयंती पर श्रद्धासुमन-दो अक्तूबर को आज देश के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 116वीं जयंती है। उनकी सादगी अपने आप में मिसाल है। ईमानदारी और स्वाभिमानी छवि की वजह से आज भी उन्हें बहुत सम्मान के साथ याद किया जाता है। राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर उनकी स्मृति को नमन। भारत माता के उस महान सपूत ने अभूतपूर्व समर्पण और सत्यनिष्ठा से देश की सेवा की। हरित क्रांति व श्वेत क्रांति में मूलभूत भूमिका और युद्धकाल में सुदृढ़ नेतृत्व के लिए सभी देशवासी उन्हें श्रद्धापूर्वक याद करते है। प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री को याद करते हुए लिखा, कि लाल बहादुर शास्त्री जी विनम्र और दृढ़ थे। उन्होंने सादगी को महत्व दिया और हमारे राष्ट्र के कल्याण के लिए जीया। हम उनकी जयंती पर उन्हें भारत के लिए किए गए हर काम के लिए कृतज्ञता की भावना के साथ याद करते हैं। गृह मंत्री ने शास्त्री जी को नमन करते हुए कहा कि भारत रत्न लाल बहादुर शास्त्री जी का सादगीपूर्ण, दूरदर्शी व निडर व्यक्तित्व पूरे देश को प्रेरित करता है। उनके हिमालय जैसे मजबूत नेतृत्व और ‘जय जवान जय किसान’ के ओजस्वी नारे ने भारत की समृद्धि व सुरक्षा के दो सबसे बड़े स्तंभ…किसानों और जवानों को सशक्त किया। उन्हें कोटि-कोटि नमन। रक्षा मंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री को श्रद्धांजलि देते हुए लिखा कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्रीजी एक ऐसी शख्सियत थे जिन्होंने सादगी, सरलता, सत्य-निष्ठा एवं सहजता जैसे जीवन मूल्यों को आजीवन जिया। देश के प्रति उनका जो योगदान है वह हम सभी के लिए प्रेरणा है। शास्त्रीजी की जयंती पर मैं उन्हें अपनी भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.