Press "Enter" to skip to content

प्रधानमंत्री मोदी 5 अगस्त को करेंगे राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करेंगे। सूत्रों के मुताबिक श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट की ओर से भेजी गई 3 और 5 अगस्त की तारीख में से पीएमओ ने 5 अगस्त वाली तारीख को चुना है।

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने अयोध्या में सर्किट हाउस में हुई बैठक के बाद मीडिया को यह जानकारी दी थी कि राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए तारीखें प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजी गई है। कोरोना और लद्दाख में चीन के साथ चल रहे तनाव के स्थिति को देखते हुए पीएमओ को अब तीरीख तय करनी है। उन्होंने कहा कि भूमि पूजन के लिए सर्वसम्मति से प्रधानमंत्री को आमंत्रित करने का निर्णय लेने के बाद ही दो तारीखें पीएमओ को भेजी गई हैं। वहीं ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने कहा कि भूमि पूजन के लिए पीएमओ को अगस्त की दो तारीखें सुझाई गई है, वे अपनी सुविधानुसार इस पर फैसला करेंगे। राय ने बताया कि राम मंदिर निर्माण में तीन से साढ़े तीन साल का वक्त लग सकता है। लार्सन एंड टुर्बो कंपनी जमीन से 60 मीटर नीचे तक की मिट्टी का परीक्षण कर रही है। यही कंपनी मंदिर का निर्माण करेगी। फिलवक्त कंपनी के इंजीनियर नीव की डिजाइन पर काम कर रहे हैं। ड्राइंग के आधार पर नींव पर काम शुरू किया जाएगा। राय ने बताया कि मंदिर निर्माण में वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए देश के चार लाख इलाकों में 10 करोड़ परिवारों से संपर्क की कार्ययोजना बनाई गई है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस की स्थिति में सुधार होने के बाद धन संग्रह के लिए संपर्क अभियान शुरू किया जाएगा।

पीएम को 40 किलो चांदी की शिला देंगे..

राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करने अयोध्या आने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से 40 किलोग्राम चांदी की शिला भेंट की जाएगी। ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने बताया कि पीएम के साथ-साथ के देश के तमाम राजनीतिक और धार्मिक हस्तियों को भूमि पूजन कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाएगा। इसमें राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ(आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत, गृहमंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह समेत 200 प्रमुख हस्तियां होंगी। इनके साथ ही राम जन्मभूमि आंदोलन की अगुवाई करने वाले नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती समेत राम मंदिर आंदोलन को धार देने वाले अन्य नेताओं को भी बुलावा भेजा जाएगा।

पवार का पीएम पर तंज, राम मंदिर बनाने से नहीं खत्म होगा कोरोना..

इस बीच एनसीपी नेता शरद पवार ने पीएम नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि कुछ लोगों को लगता है कि राम मंदिर बनाने से कोरोना खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार को लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था को हुए नुकसान पर ध्यान देने की जरूरत है। पवार उन नेताओं में से हैं, जो कम बोलते हैं और जब बोलते हैं तो उसके गंभीर मायने होते हैं। दरअसल, पवार का तंज इस लिहाज से है कि केंद्र की मोदी सरकार कोरोना महामारी को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने की बजाए, गैर जरूरी कामों में लगी है और लोगों को ध्यान भटका रही है।

इसे भी पढ़ें-श्रीराम मंदिर ट्रस्ट में डोनेशन देने वालों को मिलेगी इनकम टैक्स में छूट

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.