Press "Enter" to skip to content

प्रियंका गांधी ने मौनी अमावस्या पर संगम में लगाई डुबकी

प्रयागराज। कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को नैनी स्थित अरैल घाट पर मौनी अमावस्या के अवसर पर संगम में डुबकी लगाई और स्नान के बाद पूजा अर्चना की। इसके अलावा उन्होंने द्वारिका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती से आशीर्वाद लिया। एक कांग्रेस नेता ने बताया कि प्रियंका स्वयं चप्पू चलाकर नाव को अरैल घाट तक लेकर आईं। गुरुवार को मौनी अमावस्या थी और मान्यताओं के मुताबिक़ गंगा में स्नान का इस दिन का काफ़ी महत्व है। मौनी अमावस्या माघ मेले का सबसे प्रमुख स्नान पर्व है और मेला प्रशासन का दावा है कि इस मौके पर यहां गंगा, यमुना और संगम में शाम छह बजे तक लगभग 30 लाख श्रद्धालुओं ने स्नान किया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने बताया कि प्रियंका गांधी के साथ उनकी बेटी मिराया वाड्रा और कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा ने संगम में स्नान किया। सबसे खास बात यह रही कि प्रियंका गांधी खुद नाव चलाकर अरैल घाट तक आईं। तिवारी ने बताया कि उन्होंने सबके बीच प्रियंका से कहा कि यदि वह इसी तरह कांग्रेस की नाव चलाएं तो पार्टी की नैया पार हो जाएगी। प्रियंका गांधी ने संगम में पूरे श्रद्धा भाव से स्नान किया और स्नान के बाद पूजा अर्चना की। स्नान के दौरान आसपास अन्य श्रद्धालु बड़े कौतुहल के साथ प्रियंका गांधी को देख रहे थे। कांग्रेस के स्थानीय नेता मुकुल तिवारी ने बताया कि प्रियंका गांधी के संगम स्नान के दौरान जल पुलिस की नावें आसपास सुरक्षा में लगी रहीं और सुरक्षा कर्मी तैनात रहे। सुरक्षा कारणों से ही प्रियंका गांधी को अरैल स्थित वीआईपी घाट से स्नान की सुविधा उपलब्ध कराई गई। प्रमोद तिवारी ने बताया कि प्रियंका गांधी दिन में 12 बजे बम्हरौली हवाईअड्डा पहुंची जहां से वह सीधे स्वराज भवन पहुंची। स्वराज भवन में करीब एक घंटा बिताने के बाद प्रियंका गंगा स्नान के लिए अरैल घाट रवाना हो गईं। कांग्रेस के एक अन्य नेता इरशाद उल्लाह ने बताया कि गंगा स्नान के बाद प्रियंका मनकामेश्वर मंदिर स्थित शंकराचार्य के आवास पर पहुंचीं जहां उन्होंने शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती से आशीर्वाद लिया और प्रसाद ग्रहण किया। इस दौरान कांग्रेस के सभी प्रमुख और स्थानीय नेता मौजूद रहे। जगद्गुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती से भेंट के बाद प्रियंका गांधी ने संवाददाताओं को बताया कि आज यहां आकर बहुत खुशी हुई क्योंकि शंकराचार्य जी और हमारे परिवार के बीच बहुत पुराना रिश्ता है। मैं हमेशा उनके संपर्क में रहती हूं और आज उनसे मिलने का मौका मिला, इसलिए बहुत खुशी हुई। शंकराचार्य से भेंट के बाद प्रियंका गांधी दिल्ली जाने के लिए हवाईअड्डा रवाना हो गईं। यह प्रियंका गांधी की निजी यात्रा थी। अरैल घाट पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी के साथ ही कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव बाजीराव खाड़े, स्थानीय नेता, संदीप सिंह, मकसूद अहमद और अनिल यादव भी मौजूद रहे।

More from उत्तर प्रदेशMore posts in उत्तर प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *