Press "Enter" to skip to content

फ्रांस से भारत के लिए राफेल ने भरी उड़ान, 29 जुलाई को भारतीय वायु सेना में होंगे शामिल

नई दिल्ली।  राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप के पांच जहाज सोमवार को फ्रांस से भारत के लिये रवाना हो गए हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। देर शाम ये विमान यूएई पहुंचे, जहां कुछ वक्त रुकने के बाद भारत के लिए फिर उड़ान भरेंगे। इन विमानों के बुधवार को अंबाला वायुसेना स्टेशन पहुंचने की उम्मीद है।

भारत ने वायुसेना के लिये 36 राफेल विमान खरीदने के लिये चार साल पहले फ्रांस के साथ 59 हजार करोड़ रुपये का करार किया था। सितंबर 2019 में इन विमानों की सप्लाई शुरू होने की बात थी, लेकिन ये अब आ रहे हैं। पहली खेप में पांच विमान दिए जा रहे हैं। भारतीय वायुसेना के बेड़े में राफेल के शामिल होने से उसकी युद्ध क्षमता में महत्वपूर्ण वृद्धि होने की उम्मीद है। भारत को यह लड़ाकू विमान ऐसे समय में मिले हैं, जब उसका पूर्वी लद्दाख में सीमा के मुद्दे पर चीन के साथ गतिरोध चल रहा है। फ्रांस में भारत के राजदूत जावेद अशरफ ने विमानों के फ्रांस से उड़ान भरने से पहले भारतीय वायुसेना के पायलटों से बातचीत की। पेरिस में स्थित भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया कि यात्रा मंगलमय हो: फ्रांस में भारतीय राजदूत ने राफेल के भारतीय पायलटों से बातचीत कर उन्हें बधाई दी। साथ ही उन्हें सुरक्षित भारत पहुंचने के लिये शुभकामनाएं भी दीं। इन पांच राफेल लड़ाकू विमानों को बुधवार दोपहर वायुसेना में शामिल किये जाने की उम्मीद है। हालांकि, वायुसेना के एक प्रवक्ता ने कहा कि इन्हें बल में शामिल करने को लेकर औपचारिक समारोह का आयोजन अगस्त के मध्य में किया जाएगा। फिलवक्त  इन विमानों के मिलने से भारतीय वायु सेना की ताकत में अद्भुत वृद्धि का दावा किया जा रहा है। इन विमानों में एक साथ पांच से छह हथियार ले कर उड़ने की क्षमता है। यहां तक कि ये परमाणु बम भी लेकर उड़ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें-राफेल के बाद अब बढ़ेगी मिग विमानों की ताकत

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.