Press "Enter" to skip to content

अहंकार त्यागकर गुरु के द्वारा दिए गए मंत्र से अपना कल्याण करें-देवकीनंदन ठाकुर जी

शुकतीर्थ(मुजफ्फरनगर)।
विश्व शांति सेवा ट्रस्ट द्वारा आयोजित श्रीमद् भागवत कथा शुक तीर्थ में कथा के विश्राम दिवस के प्रातः कालीन सत्र में कथा व्यास शांति दूत पंडित देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने गुरु की महिमा बताते हुए कहा कि सिर्फ गुरु और गुरु के द्वारा दिया गया मंत्र ही एकमात्र भोतिक जगत से पार करने का साधन है राधा नाम ही हमारा धन है जो कभी नष्ट नहीं होगा ।नष्ट होने वाली वस्तुओं की तरफ आकर्षण नहीं होना चाहिए जो इस लोक में भी रहे और परलोक में भी रहे उसी वस्तु का संग करना चाहिए। अहंकार त्यागकर गुरु के द्वारा दिए गए मंत्र से अपना कल्याण करें इस अवसर पर श्रीशुकदेव आश्रम पीठ के संत स्वामीओमानंद जी महाराज ने व्यास पूजन किया तथा अपने संबोधन में कहा कि यह शुकदेव तीर्थ सभी के लिए सुलभ है और विश्व में एकमात्र भागवत पीठ के नाम से स्थापित है यहां किसी प्रकार का कोई भी प्रतिबंध नहीं है बड़े छोटे का भेद नहीं है सभी इस दिव्य पीठ के मालिक हैं ईश्वर ने हमें सेवा का मौका दिया है अतः हम अपनी भूमिका निभा रहे हैं अन्यथा सभी यहां आ सकते हैं कथा व्यास जी से उन्हें कथा कहने का निवेदन करते हुए ओमानंद जी महाराज ने कहा भागवत कथा एकमात्र ऐसी कथा है जिसकी श्रवण मात्र से व्यक्ति भवसागर से पार हो जाता है। स्वामी ओमानंद जी महाराज ने मुख्य यजमान मुकेश पांडे का भी सपरिवार स्वागत किया और ऐसे धार्मिक कार्यों के प्रति प्रेरणा दाई परिवार समर्पित रहें ऐसा आह्वान किया।। इस पर मुख्य रूप से महामृत्युंजय सेवा मिशन अध्यक्ष पंडित संजीव शंकर, एस पी अग्रवाल, जेपी सिंघल, सुरेश गोयल जयपुर, सतीश गर्ग आगरा, मनोज शर्मा, विनोद शर्मा मुख्य रूप से उपस्थित रहे वहीं कथा का कुशल संचालन विजय शर्मा जी द्वारा किया गया

More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.