Press "Enter" to skip to content

मुजफ्फरपुर में मौत को मात देकर घर पहुंचा संजीव, मच गया हड़कंप

मुजफ्फरपुर: बिहार के मुजफ्फरपुर में एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है। किसी व्यक्ति की मृत्यु हो चुकी हो। उसका अंतिम संस्कार हो चुका हो और वह अचानक सामने आ जाए। यह जानकर आपके होश उड़ जाएंगे, लेकिन एक ऐसा ही मामला बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से सामने आया है।

मंगलवार को मुजफ्फरपुर जिले के मुशहरी थाना क्षेत्र के बुधनगरा गांव में उस वक्त हड़कंप मच गया जब एक व्यक्ति का श्राद्धकर्म का कार्यक्रम चल रहा था वह सकुशल सामने आ गया। मृतक को सामने देखते ही लोग चौंक गए। बात पूरे गांव में आग की तरह फैल गई।

दरअसल बीते 25 अगस्त को मुजफ्फरपुर के मुशहरी थाना क्षेत्र के बुधनगरा गांव का रहने वाला 49 वर्षीय संजीव कुमार लापता हो गया था। संजीव के पिता रिटायर्ड सैनिक रामसेवक ठाकुर द्वारा मुशहरी थाना में एक मामला 6 सितंबर को दर्ज कराया गया था। जिसमें उन्होंने बताया था कि संजीव मंदबुद्धि है और पिछले कई दिनों से लापता है।

इस घटना के बाद सिकंदरपुर ओपी इलाके के अखाड़ा घाट पुल के नजदीक गंडक नदी के किनारे लगे एक अधेड़ व्यक्ति का अज्ञात शव मिला था। जिसे पुलिस द्वारा कागजी प्रक्रिया पूरी कर पोस्टमार्टम के लिए SKMCH भेज दिया गया।

जब संजीव के परिजनों को ऐसी सूचना मिली कि कोई अधेड़ का शव मिला है पहचान नहीं हुई है उसको एसकेएमसीएच में भेजा गया है। उक्त सूचना पर लापता संजीव के पिता अपने रिश्तेदारों के साथ वहां पहुंचे और उक्त अज्ञात शव को अपना बेटे का शव बताकर ले लिया।

रीतिरिवाजों के अनुसार उक्त अज्ञात शव का दाह संस्कार कर दिया। वहीं लापता संजीव उस वक्त घर आ पहुंचा जब उसका ही श्राद्धकर्म चल रहा था। इस पूरे घटनाक्रम में सबसे अहम सवाल यह है कि आखिर संजीव के घर वालों ने उस शव की पहचान कैसे कर डाली? जिस शव का अंतिम संस्कार किया गया वह किसका था?

More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.