Press "Enter" to skip to content

श्रीराम कॉलेज में “इनोवेशन इन साइंस एण्ड टैक्नोलॉजी“ थीम पर “टैक फेयर 2019“ में विज्ञान प्रदर्शनी

मुजफ्फरनगर। श्रीराम कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग द्वारा “इनोवेशन इन साइंस एण्ड टैक्नोलॉजी“ थीम पर “टैक फेयर 2019“ नाम से विज्ञान प्रदर्शनी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कॉलेज द्वारा आयोजित अब तक की सबसे बड़ी विज्ञान प्रदर्शनी में विभिन्न जिलों एवं क्षेत्रों से आए 178 कॉलेजों के 3864 विद्यार्थियों ने 386 मॉडल्स के साथ प्रतिभागिता की। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि ए0डी0एम फाइनेंस, आलोक कुमार, बुढ़ाना के विधायक उमेश मलिक, पंजाब नेशनल बैंक के डी0जी0एम, मानवेंद्र प्रताप सिंह, श्रीराम ग्रुप ऑफ कॉलेजेज़ के चेयरमैन, डा0 एस0सी0 कुलश्रेष्ठ, श्रीराम कॉलेज के निदेशक डा0 आदित्य गौतम, श्रीराम कॉलेज की प्राचार्या डा0 प्रेरणा मित्तल, एवं डा0 आलोक गुप्ता द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया।टैक फेयर 2019 कार्यक्रम को दो भागो- विज्ञान प्रदर्शनी एवं टैकनोवेव में बांटा गया। विज्ञान प्रदर्शनी को दो वर्गों ए और बी में विभाजित किया गया। ए वर्ग में कक्षा नौवीं एवं दसवीं के विद्यार्थियों को शामिल किया गया। बी वर्ग में कक्षा ग्यारहवीं एवं बारहवीं के विद्यार्थियों को सम्मिलित किया गया। प्रदर्शनी में आस-पास के जिलों एवं क्षेत्रों से आए कॉलेजों के बालवैज्ञानिकों ने प्राकृतिक संसाधन, अंतरिक्ष, ऊर्जा-प्रबंधन, आपदा प्रबंधन, विज्ञान और समाज, नाभिकीय विज्ञान, स्वास्थ्य व पर्यावरण आदि विषयों पर 386 क्रियाशील एवं अक्रियाशील मॉडल्स प्रस्तुत किए।
इसमें “ए वर्ग“ के क्रियाशील मॉडल्स में प्रथम पुरस्कार कल्याणकारी इंटर कॉलेज, जघेड़ी की खुशी, श्रेया, आंचल और शिवानी के ग्रुप को दिया गया। जिसमें विद्यार्थियों ने वेस्ट टू वेल्थ थीम पर अपने प्रोजेक्ट के माध्यम से यह प्रदर्शित किया कि किस प्रकार बेकार चीज़ों को उपयोग में लाया जा सकता है। द्वितीय पुरस्कार न्यू होरिज़न पब्लिक स्कूल मुजफ्फरनगर के विद्यार्थी विशाल, मनव्वर, दिवांशी और वरदान द्वारा तैयार ईको फ्रेंडली सिस्टम थीम पर तैयार मॉडल को दिया गया। तृतीय पुरस्कार दून वैली पब्लिक स्कूल, देवबंद के अर्श, सार्थक, रितिक और मयंक के ग्रुप द्वारा तैयार स्मार्ट कॉलोनी पर तैयार प्रोजेक्ट को दिया गया।“ए वर्ग“ की ही अक्रियाशील मॉडल्स की श्रेणी में प्रथम पुरस्कार  एस0डी0 गर्ल्स इंटर कॉलेज, गांधी कॉलोनी की विद्यार्थियों मानसी शर्मा, शीतल, शुमाइला और शिवानी पाल को हेल्थ हाइजिन एण्ड इनवॉयरनमेंट थीम पर तैयार मॉडल को दिया गया। द्वितीय पुरस्कार कल्याणकारी इंटर कॉलेज, बघरा के हर्ष कुमार, सौरभ, पारस, अरूण और हरिओम को सड़क सुरक्षा थीम पर तैयार मॉडल ने प्राप्त किया। तृतीय पुरस्कार दून हील एकेडमी, देवबंद की साक्षी, वनिका, कामिनी, वंतिका और मनुस्मृति के ग्रुप को दिया गया। जिन्होंने वेस्ट टू वेल्थ थीम को शानदार तरीके से अपने मॉडल द्वारा प्रदर्शित किया।
“बी वर्ग“ के क्रियाशील मॉडल्स में प्रथम पुरस्कार भागवंती सरस्वती विद्या मंदिर की विद्यार्थियों दूर्गा और सलोनी को सीवेज़ वॉटर ट्रीटमेंट थीम पर तैयार मॉडल के लिए दिया गया। द्वितीय पुरस्कार डी0एस0 पब्लिक स्कूल,की महक, पलक और वंशिका गौतम को वेस्ट टू वेल्थ थीम पर तैयार मॉडल को दिया गया। तृतीय पुरस्कार दीपचंद ग्रेन चैंबर स्कूल, मुज़फ्फरनगर के गौरव, आकाश, आकांक्षा पाल, साक्षी और दीपा आदि विद्यार्थियों को नेचूरल रिसोर्स कंज़रवेशन थीम पर तैयार प्रोजेक्ट को दिया गया। “बी वर्ग“ की ही अक्रियाशील मॉडल्स की श्रेणी में प्रथम पुरस्कार एस0डी इंटर कॉलेज के विद्यार्थियों वंश, मीनाक्षी, कृष्टि और उज्जवल द्वारा तैयार मैनेजिंग एण्ड यूज़ ऑफ वॉटर मैटेरियल थीम पर प्रदर्शित मॉडल ने प्राप्त किया। द्वितीय पुरस्कार स्कोटिश इंटरनेशनल स्कूल शामली के आयुष, हर्षित, तनिष्क, दिव्या और अरनव को हयूमेनॉयड रोबोट प्रोजेक्ट के लिए दिया गया। तृतीय पुरस्कार जनता कन्या इंटर कॉलेज, खतौली की आलिया, सलोनी, स्तुति और खुशी को ग्लोरियस पाथ टू एनर्जी थीम पर तैयार मॉडल्स को दिया गया। जिसमें विद्यार्थियों ने मॉडल्स द्वारा दर्शाया कि किस तरह सड़क पर चलने वाले वाहनों से ऊर्जा प्राप्त की जा सकती है।
कार्यक्रम में विशेष पुरस्कार भी दिया गया। जो स्कोटिश इंटरनेशनल स्कूल शामली के विद्यार्थी अरनव बालियान और तनिष्क शर्मा को एंटी कार हाइजैकिंग सिस्टम पर तैयार मॉडल को दिया गया।
कार्यक्रम के दूसरे भाग टैकनोवेव में लेन गेमिंग, पोस्टर मेकिंग, प्रजेंटेशन मेकिंग, टाइपिंग मास्टर, बैस्ट आउट ऑफ वेस्ट तथा क्वीज आदि गतिविधियों की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। जिसमें लेन गेमिंग प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार डी0एस0 पब्लिक स्कूल के आदित्य, तेजस और आकाश ने प्राप्त किया। द्वितीय पुरस्कार न्यू होरिजन पब्लिक स्कूल के अमन अहमद, मुजाइफा और ईशान को दिया गया। तृतीय पुरस्कार डी0डी0पी0एस0,  के उज्जवल, सागर और अर्जुन को दिया गया।पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार लाला जगदीश प्रसाद,  के आयुष धीमान और शिवा सैनी ने प्राप्त किया। द्वितीय पुरस्कार डी0एस0 पब्लिक स्कूल के अभिनव कुमार ने प्राप्त किया। तृतीय पुरस्कार न्यू होरिजन पब्लिक स्कूल,  की विधि और राशि को मिला।
प्रजेंटेशन मेकिंग प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार डी0एस0 पब्लिक स्कूल के शुभम को प्राप्त हुआ। द्वितीय पुरस्कार देवी उमरा कौर स्कूल, शामली के निशांत शर्मा ने प्राप्त किया। तृतीय पुरस्कार डी0डी0पी0एस  की सताक्षी को मिला।
टाईपिंग मास्टर प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार डी0ए0वी0 इंटर कॉलेज, जानसठ के ललित कुमार को मिला, द्वितीय पुरस्कार डी0एस0 पब्लिक स्कूल के आकाश ने प्राप्त किया। तृतीय पुरस्कार डी0ए0वी इंटर कॉलेज के विकास शुक्ला को मिला।
बैस्ट आउट ऑफ वेस्ट प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार देहरादून पब्लिक स्कूल की अवनी, अन्नपूर्णा और जिया ने प्राप्त किया। द्वितीय पुरस्कार राखी पब्लिक स्कूल, सोहनजनी की साफिया और स्काईलैण्ड स्कूल, शाहपुर की इकरा को संयुक्त रूप से दिया गया। तृतीय पुरस्कार देवी उमरा कौर वैदिक इंटर कॉलेज की काजल, नेहा और आकांक्षा ने प्राप्त किया।
वहीं क्विज़ प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार कल्याणकारी कन्या इंटर कॉलेज की तनु पंवार ने प्राप्त किया। द्वितीय पुरस्कार नालंदा पब्लिक स्कूल के अक्षतवीर सिंह औश्र हिमांशी मलिक को मिला। तृतीय पुरस्कार एम0डी0एस विद्या मंदिर इंटर कॉलेज के संस्कार चौधरी और अंशुल कुमार ने प्राप्त किया।
इस अवसर पर ए0डी0एम फाइनेंस, आलोक कुमार ने विजेताओं की प्रशंसा करते हुए कहा कि बालवैज्ञानिकों के उत्कृष्ट प्रदर्शन से परिलक्षित होता है कि देश का भविष्य उज्जवल है और वह दिन दूर नहीं जब भारत विज्ञान और तकनीकी क्षेत्र में दुनिया का नेतृत्व करेगा। उन्होंने आगे कहा कि ऐसे आयोजनों से विद्यार्थियों की परिकल्पना क्षमता का विकास होता है, जिसके माध्यम से भविष्य में आगे चलकर बाल वैज्ञानिक देश और मानवता के हित में नए आविष्कार करने के लिए प्रेरित होंगे।
बुढ़ाना के विधायक उमेश मलिक ने कहा विद्यार्थियों कि इस वर्ष पिछले साल के मुकाबले दो गुना कॉलेज से आए विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया है। जिससे पता चलता है कि नई पीढ़ी विज्ञान और तकनीकी के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए काफी उत्साहित है। उन्होंने आगे कहा कि विज्ञान में चिंतन, तर्क, प्रयोग तथा परीक्षण के बिना किसी बात को सत्य नहीं माना जाता। बाल वैज्ञानिकों के मॉडल यह संदेश देते हैं कि प्रयोग के बाद उनमें निहित सिद्धांतों को भी समझना जरूरी है। यदि विद्यार्थी रूचि लेकर प्रयोग करेंगे तो उनसे कुछ न कुछ अवश्य सीखने को मिलेगा एवं तभी विद्यार्थियों की जिज्ञासा आविष्कार का रूप ले राष्ट्र एवं समाज हित में महत्वपूर्ण साबित होगा।
श्रीराम ग्रुप ऑफ कॉलेजेज़ के चेयरमैन डा0 एस0सी0 कुलश्रेष्ठ ने सभी प्रतिभागियों को बधाई देते हुए कहा कि पुरस्कार जीतना ही महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि ऐसी प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग करना उससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है। उन्होंने विद्यार्थियों के साथ कार्यक्रम में शिरकत करने आए अध्यापकगणों को बधाई देते हुए कहा कि विद्यार्थियों के शानदार प्रदर्शन में अध्यापकगणों का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों द्वारा तैयार किए गए मॉडल इतने उच्चस्तरीय एवं रचनात्मकता से ओत-प्रोत थे कि हमारे लिए विजेताओं का चयन करना काफी कठिन था। उन्होंने प्रतिभागियों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि श्रीराम ग्रुप ऑफ कॉलेजेज़़ बाल वैज्ञानिकों की प्रतिभा को निखारने के लिए समय-समय पर मंच प्रदान करता रहा है।
इस अवसर पर विभिन्न इंटर कॉलेजों से आए हुए विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर रंगारंग कार्यक्रमों में भी प्रतिभाग किया और अतिथियों ने प्रतिभागियों को नकद पुरस्कार भी प्रदान किया एवं कार्यक्रम के बीच-बीच में लकी ड्रा का भी आयोजन किया गया और विजेताओं को पुरस्कृत भी किया गया।
इस अवसर पर ई0 साक्षी श्रीवास्तव, नीतू सिंह, रूपल मलिक, डा0 आलोक गुप्ता, ई0 रोहताश सिंह, ई0 अर्जुन सिंह,, ई0 पवन कुमार गोयल, डा0 मोहित शर्मा , ई0 रूचि राय, ई डी0एस0 यादव, डा0 विकास अग्रवाल, डा0 सुभाष यादव, ई0 पवन कुमार, अजय चौहान, ई0 पीयूष चौहान, ई0 विकास बंसल, पॉलिटैक्निक प्रधानाचार्य डा0 रविन्द्र कुमार सैनी, ई0 आशीष कुमार, ई0 आलिम जैदी, कपिल धीमान, डा0 बुशरा आकिल एवं अन्य संकाय सदस्य उपस्थित रहें।

More from खबरMore posts in खबर »
More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.