Press "Enter" to skip to content

पुलवामा के शहीद मोहन लाल को मिलेगा राष्ट्रपति सम्मान,गणतंत्र दिवस पर 946 पुलिस अधिकारियों और पुलिसकर्मियों को पदक

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस पर देश के विभिन्न राज्यों के 946 पुलिस अधिकारियों और पुलिसकर्मियों के चयन में दो सुरक्षाकर्मियों को मरणोपरांत राष्ट्रपति पुलिस पदक, वीरता के लिए 205 पुलिस पदक, विशिष्ट सेवा के लिए 89 राष्ट्रपति पुलिस पदक और 650 सराहनीय सेवा पुलिस पदक प्रदान किये जाएंगे। राष्ट्रपति पुलिस पदक झारखंड मे एएसआई स्व. भानु ओरांव तथा सीआरपीएफ के एएसआई मोहनलाल को दिया जा रहा है। वहीं देश में गणतंत्र दिवस पर पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवान मोहन लाल को मरणोपरांत राष्ट्रपति सम्मान दिया जाएगा। देश की रक्षा के लिए अतुल्य योगदान देने वाले सैनिकों, पुलिसकर्मियों और देश के लिए बलिदान देने वाले वीर सैनिकों को सम्मानित किया जाएगा। यह जानकारी सोमवार को गृह मंत्रालय ने देते हुए बताया कि गणतंत्र दिवस पर अपनी जान की परवाह किए बिना बड़ी ही कुशलता और सूझबूझ से लोगों की जान बचाने वाले देश के 73 अग्निशमन सेवा कर्मियों को सम्मानित किया जाएगा। इनमें से आठ को राष्ट्रपति पुरस्कार मिलेगा। जबकि दो अग्निशमन कर्मियों को गैलेंट्री अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। गणतंत्र दिवस पर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 131 जवान और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) 71 जवानों को देश की सुरक्षा में वीरता दिखाने के लिए सम्मानित किया जाएगा।

राष्ट्रपति ने की 40 जीवन रक्षा पदक की घोषणा-गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दूसरों का जीवन बचाने के लिए बहादुरी दिखाने वाले 40 लोगों को जीवन रक्षा पदक प्रदान किए जाने की स्वीकृति दी है। इनमें केरल मुहम्मद मोहसिन को मरणोपरांत सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक दिया जाएगा। गृह मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, उत्तम जीवन रक्षा पदक आठ लोगों को और जीवन रक्षा पदक 31 लोगों को प्रदान किया जाएगा। जीवन रक्षा पदक श्रृंखला के पुरस्कार तीन श्रेणियों- सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक, उत्तम जीवन रक्षा पदक और जीवन रक्षा पदक के तौर पर दिए जाते हैं। केरल के मुहम्मद मोहसिन को सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक-2020 (मरणोपरांत) के लिए नामित किया गया है। ये पुरस्कार किसी व्यक्ति के संकट में पड़े जीवन को बचाने और उसकी मदद करने के लिए दिए जाते हैं। इस पुरस्कार के तहत पदक, गृह मंत्रालय द्वारा हस्ताक्षरित प्रमाणपपत्र और कुछ निश्चित राशि प्रदान की जाती है। गुजरात के रामशीभाई रतनभाई समद, महाराष्ट्र के परमेश्वर बालसजी नागरगोजे, पंजाब की अमनदीप कौर, तेलंगाना के कोरिपेल्ली स्रुजन रेड्डी तथा कई अन्य लोगों को उत्तम जीवन रक्षा पदक प्रदान किया जाएगा।

आईटीबीपी के लूथरा व अनुराग को वीरता पदक-गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर सोमवार को भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के 17 जवानों को विभिन्न श्रेणियों के पुलिस सेवा पदक से सम्मानित किया गया। दो अधिकारियों को उनकी बहादुरी के लिए पुलिस वीरता पदक से सम्मानित किया गया, जबकि तीन को उत्कृष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक और 12 को सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक से सम्मानित किया गया। अधिकारियों ने कहा कि डिप्टी कमांडेंट राजेश कुमार लूथरा को जुलाई, 2019 में लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ गतिरोध को रोकने के लिए साहस और सूझबूझ का परिचय देने के लिए पुलिस वीरता पदक से सम्मानित किया गया है। वहीं, सहायक कमांडेंट अनुराग कुमार सिंह को 2017 में जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद-रोधी अभियान चलाने के लिए दूसरी बार वीरता पदक प्रदान किया गया है।पदक पाने वाले अन्य अधिकारियों में महानिरीक्षक (आईजी) दीपम सेठ को सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक से सम्मानित किया गया और उप महानिरीक्षक सुधाकर नटराजन को उत्कृष्ट सेवा के लिए पुलिस पदक से सम्मानित किया गया है। उत्तराखंड कैडर के 1995 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी सेठ, 2019 के मध्य से लद्दाख में स्थित आईटीबीपी के उत्तर-पश्चिमी सीमावर्ती मोर्चे का नेतृत्व कर रहे हैं।

73 जवानों को मिलेगा अग्निशमन मेडल-इसके अलावा 73 जवानों को अग्निशमन मेडल से सम्मानित किया जाएगा। इनमें से 8 जवानों को उनकी साहस और वीरता के लिए राष्ट्रपति के फायर सर्विस मेडल से नवाजा जाएगा जबकि 2 जवानों को फायर सर्विस मेडल से सम्मानित किया जाएगा।

14 अग्निशमन कर्मियों को विशिष्ट सेवा अवॉर्ड-विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति के फायर सर्विस मेडल से 14 जवान और सराहनीय सेवा के लिए फायर सर्विस मेडल से 50 जवानों को चुना गया है। इनके अलावा 54 जवान होम गार्ड और सिविल डिफेंस मेडल से नवाजा गया है।

शहीद कर्नल संतोष बाबू को मिल सकता है महावीर चक्र-बीते साल गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से लोहा लेते हुए शहीद होने वाले कर्नल संतोष बाबू को महावीर चक्र से सम्मानित किया जा सकता है। हर साल 26 जनवरी के मौके वीरता पुरस्कारों का ऐलान होता है। सूत्रों के हवाले से खबर है कि इस बार यह पुरस्कार कर्नल संतोष बाबू को मरणोपरांत मिल सकता है।संतोष बाबू के अलावा गलवान घाटी झड़प में चीनी सेना का डटकर मुकाबला करने वाले कई जवानों को गैलेंट्री अवॉर्ड से नवाजा जा सकता है। सेना में परमवीर चक्र के बाद महावीर चक्र सबसे बड़ा सम्मान होता है। बता दें कि पिछले साल 15-16 जून की रात पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में एएलसी पर हुई झड़प में कर्नल समेत भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.