Press "Enter" to skip to content

राहुल गांधी से मिलीं शीला दीक्षित, आप के साथ दिल्ली में गठबंधन की खुली गांठें

नई दिल्ली। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बाच गठबंधन की गांठें खुलती दिख रही हैं। शनिवार को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। माना जा रहा है कि आप के साथ गठबंधन को लेकर इनके बीच चर्चा हुई। सीटों की घोषणा जल्द होने की उम्मीद की जा रही है।

आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच न, न कहते हुए भी गठबंधन की राह बन गई है। बताया गया कि दोनों दलों के बीच 4-3 का फार्मूला बना है। दिल्ली की कुल 7 सीटों में से कांग्रेस को 3 सीटें देने को आप राजी हो गई है, जबकि खुद 4 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। हालांकि पूर्व में आप केवल 2 सीटों ही कांग्रेस को देने को तैयार थी। इसके अलावा आप हरियाणा और पंजाब में भी कांग्रेस से सीटें चाहती है। लेकिन कांग्रेस ने पंजाब में एक भी सीट न देने की बात कही है। वहीं हरियाणा में केवल एक सीट देने को राजी हुई है। तमाम टालमटोल के बाद आखिरकार अब दोनों दलों के बीच बात बनती दिख रही है और अगले एक-दो दिन के भीतर गठबंधन की घोषणा की उम्मीद जताई जा रही है। सूत्रों की मानें तो शीला दीक्षित और दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पी.सी. चाको ने राहुल गांधी से मुलाकात कर इस बारे में बात की। राहुल ने तय फार्मूला 4-3 पर गठबंधन की हामी भर दी है।

हालांकि पूर्व में गठबंधन में हो रही देरी को लेकर आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने राहुल गांधी पर तीखे हमले किए थे। केजरीवाल ने गठबंधन न होने के लिए राहुल को जिम्मेदार बताया था। आप के बाकी नेता भी कांग्रेस पर अहंकार का आरोप लगाया था। इसके बाद आप ने दिल्ली के सभी सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा करके कांग्रेस पर दबाव बनाने की कोशिश की। लेकिन तब भी कांग्रेस गठबंधन को तैयार नहीं थी। बताया गया कि कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित इस गठबंधन के लिए तैयार नहीं थीं। उन्होंने पार्टी हाईकमान राहुल गांधी को भी इसके लिए तैयार कर लिया था। लेकिन हाल के कुछ सर्वे और पार्टी की अंदरूनी हालात ने कांग्रेस को भी गठबंधन के लिए मजबूर कर दिया। बताया गया कि ताजा सर्वे इस बात का इशारा कर रहे हैं कि अगर आप और कांग्रेस अलग-अलग चुनाव लड़े तो भाजपा को रोकना उनके बस की बात नहीं होगी। लेकिन साथ मिल कर लड़े तो दिल्ली में भाजपा का विजय रथ रुक सकता है। इसी के बाद दोनों दलों ने नए सिरे से गठबंधन पर विचार किया और अब जल्द ही तय फार्मूले पर सीटों की घोषणा होने वाली है।

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.