Press "Enter" to skip to content

शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन के पास 165 विधायकों का समर्थन: राउत

मुंबई। शिवसेना नेता संजय राउत ने दावा किया कि शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन के पास महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए 165 विधायकों का समर्थन है। उन्होंने कहा कि भाजपा का एनसीपी से अजित पवार को तोडऩे का दांव उस पर ही भारी पड़ेगा।

यहां पत्रकारों से बातचीत में राउत ने आरोप लगाया कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने अजित पवार द्वारा दिखाए फर्जी दस्तावेजों के आधार पर भाजपा के देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में नयी सरकार के गठन की इजाजत दी। उन्होंने कहा कि सरकार को बहुमत साबित करने के लिए 30 नवंबर की समयसीमा केवल इसलिए दी गई ताकि दल बदल कराया जा सके। राउत ने कहा कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के पास 165 विधायक हैं। अगर राज्यपाल पहचान परेड के लिए बुलाते हैं तो दस मिनट में हम अपना बहुमत साबित कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अजित पवार ने जन नेता शरद पवार के साथ विश्वासघात करके अपनी जिंदगी की सबसे बड़ी भूल की है। राज्यसभा सदस्य ने कहा कि अजित पवार को एनसीपी से तोडऩा भाजपा का आखिरी दांव है जो उस पर भारी पड़ेगा। उन्होंने आरोप लगाया कि अजित पवार ने अपनी पार्टी के विधायकों को भ्रम में रखा और ज्यादातर विधायक एनसीपी खेमे में लौट आए हैं। राउत ने यह भी कहा कि 23 नवंबर का दिन महाराष्ट्र के इतिहास में काला शनिवार था। शिवसेना नेता ने कहा कि भाजपा को इंदिरा गांधी द्वारा लगाए आपातकाल को काला दिवस कहने का कोई अधिकार नहीं है। राउत ने पूछा कि अगर भाजपा के पास बहुमत था तो शपथ ग्रहण इतनी गोपनीयता से क्यों किया गया? उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने भाजपा को ज्यादा वक्त देकर पक्षपातपूर्ण तरीके से काम किया। उन्होंने कहा कि शिवसेना और एनसीपी को 24 घंटे का वक्त दिया गया था और भाजपा को 30 नवंबर तक का समय दिया गया है।

 

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.